DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: भारत के साथ रक्षा साझेदारी का दोतरफा मार्ग बनाना चाहता है ब्रिटेन

DefExpo- 2018

नई दिल्ली। चेन्नै में 11  अप्रैल से आयोजित हो रही अंतरराष्ट्रीय रक्षा प्रदर्शनी डेफएक्सपो-2018  के दौरान ब्रिटेन की बड़ी भागीदारी होगी। इस प्रदर्शनी में ब्रिटेन से एक उच्चस्तरीय रक्षा शिष्ट्मंडल भी आएगा जिसकी अगुवाई ब्रिटेन के रक्षा खरीद मंत्री गुटो बेब कर रहे हैं।





भारत के साथ रक्षा सहयोग गहरा करने के इऱादे से ब्रिटेन ने भारत के साथ दोतरफा मार्ग बनाने  की बात कही है  जिससे दोनों देशों को लाभ होगा। इसके तहत  ब्रिटेन भारत के साथ रक्षा साज सामान के उत्पादन में सहयोग करेगा , भारतीय कम्पनियों को तकनीक हस्तांतरित करेगा और भारत में रक्षा उत्पादन बढाने के लिये निवेश करेगा। गुटो बेब ने कहा कि ब्रिटेन भारत के साथ कम लागत वाले रक्षा साज सामान के उत्पादन की सुविधा खड़ा करना चाहता है क्योंकि भारतीय सेनाओं का लगातार आधुनिकीकरण हो रहा है और भारतीय सेनाओं को नई शस्त्र प्रणालियों की जरूरत है। डेफ एक्सपो में ब्रिटिश रक्षा मंत्री के साथ भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त, ब्रिटेन की सेनाओं के डिप्टी चीफ आफ स्टाफ, ब्रिेटेन के अंतरराष्ट्रीय व्यापार विभाग के रक्षा और सामरिक संगठन के आला अधिकारी भी होंगे। उनके शिष्टमंडल में  ब्रिटेन की 20  अग्रणी रक्षा कम्पनियों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।ये कम्पनियां भारत की रक्षा कम्पनियों के साथ सैन्य साज सामान बनाने के लिये संयुक्त उद्यम  लगाने और लाभजनक साझेदारी की पेशकश करेंगी।

गुटो बेब के मुताबिक रक्षा क्षेत्र में ब्रिटेन और भारत एक दूसरे को काफी कुछ दे सकते हैं। इसमें  साझा रक्षा शोध , साझेदारी और ट्रेनिंग शामिल है। हम भारत के साथ मिल कर ज्ञान ,सुरक्षा और समृद्धि बढ़ाने के लिये साझेदारी से काम करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जमीन , समुद्री , साइबर और अंतरिक्ष क्षेत्र में हम कई तरह की विश्व स्तर की क्षमताओं से लैस हैं। हथियारों के अंतरराष्ट्रीय बाजार में हम साथ मिल कर काम कर सकते हैं। हम इस साझेदारी को चिर काल तक चलाते रहना चाहते हैं।

Comments

Most Popular

To Top