Air Force

खास रिपोर्ट: स्वदेशी हेलिकॉप्टर से हवा से हवा दागी मिसाइल, सेना में शामिल होने को तैयार

लाइट कम्बैट हेलिकॉप्टर

नई दिल्ली। देश में ही डिजाइन किया औऱ विकसित लाइट कम्बैट हेलिकॉप्टर ने पहली बार हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण करते हुए अपने लक्ष्य पर सटीक निशाना लगाया औऱ उसे मार गिराया।





हिंदुस्तान एरोनाटिक्स लिमिटेड(HAL) द्वारा निर्मित इस लड़ाकू हेलिकॉप्टर ने एक सचल हवाई लक्ष्य को मार गिराया। हैल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक आर माधवन ने कहा कि देश में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक हेलिकॉप्टर ने हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल दागी और लक्ष्य को मार गिराया। सेनाओं में शामिल मौजूदा हेलिकॉप्टरों में से किसी ने भी इस तरह की क्षमता नहीं दिखाई है।

यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर स्थित मिसाइल परीक्षण केन्द्र में किया गया। माधवन ने कहा कि इस परीक्षण से हेलीकाप्टर ने सभी तरह के शस्त्र परीक्षण कर लिये हैं और अब सेना में शामिल होने को तैयार है। एलसीएच पर तैनात होने वाले अन्य हथियारों जैसे 20 मिमी के टरेट गन और 70 मिमी के राकेट के परीक्षण पिछले साल ही पूरे हो गए थे।

एलसीएच दुनिया का अकेला हेलिकॉप्टर होगा जो सियाचिन जैसे ऊंचे पर्वतीय इलाकों पर उड़ान भर सकता है। इसका डिजाइन हैल के रोटरी विंग रिसर्च एंड डिजाइन सेंटर द्वारा किया गया है। इसकी क्षमताएं दुनिया के समान हेलिकॉप्टरों से कहीं ज्यादा देखी गई हैं।

इसमें हेलमेट माउंटेड साइट और फारवर्ड लुकिंग इन्फ्रारेड साइटिंग सिस्टम लगा है। एलसीएच के पायलट जमीन या हवा में किसी भी लक्ष्य को देख कर नष्ट कर सकते हैं। इसमें लगी मिसाइल को दागने के लिये हेलिकॉप्टर को घुमाने की जरूरत नहीं होगी। यह फायर एंड फारगेट मिसाइल सभी तरह के लक्ष्यों को गिराने में सक्षम होगी। यह अनमैन्ड एयरक्राफ्ट वेहीकल और माइक्रो लाइट एयरक्राफ्ट को भी गिरा सकता है। इस तरह एलसीएच सभी हवाई खतरों से सुरक्षा छतरी की भूमिका निभा सकता है।

रक्षा मंत्रालय की खरीद परिषद (DAC) ने पहले ही 15 LCH खरीदने की मंजूरी दी है। इसमें 10 वायुसेना के लिये और पांच थलसेना के लिये होंगे।

Comments

Most Popular

To Top