Forces

Special Report: रक्षा मंत्रालय ने नौसेना के लिए और ब्रह्मोस मिसाइल को दी मंजूरी

ब्रह्मोस-मिसाइल
ब्रह्मोस मिसाइल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय की खरीद परिषद (DAC) ने नौसेना के दो युद्धपोतों के लिए ब्रह्मोस मिसाइल को खरीद की मंजूरी दी है। इसके अलावा भारतीय थलसेना के ‘अर्जुन टैंक’ के लिए बख्तरबंद रिकवरी वेहीकल ARV भी हासिल किये जायेंगे। DAC की बैठक रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में 1 दिसंबर को हुई।





इन सैन्य हथियारों की खरीद पर तीन हज़ार करोड़ रुपये की लागत आएगी। नौसेना के लिए हासिल की  जाने वाली ब्रह्मोस।मिसाइल रूस से खरीदे जाने वाले दो युद्धपोतों पर तैनात  की जायेंगी। ARV का निर्माण भारतीय कंपनी बीईएमएल द्वारा किया जाएगा।

ब्रह्मोस मिसाइलों का निर्माण भारत में ही होगा। इनका विकास रूस के सहयोग से किया गया है। ये मिसाइल सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल हैं जिनकी मारक दूरी 300 किलोमीटर होती है। ये आवाज की गति से 2.8 गुना अधिक गति से दुश्मन के पोतों पर हमला कर सकती हैं।

Comments

Most Popular

To Top