RPF

सराहनीय सेवाओं के लिए RPF अफसरों को पुलिस पदक

रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ)

नई दिल्ली। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने शनिवार को रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ) की छठी बटालियन की परेड का निरीक्षण किया और सलामी ली। स्थानीय दया बस्ती रेलवे स्टेशन पर आयोजित एक भव्य समारोह में रेल मंत्री ने यह सलामी ली और इस अवसर पर आरपीएफ के अधिकारियों और कर्मियों को पुरस्कार प्रदान किए। आरपीएफ के तीन अधिकारियों व कर्मियों को प्रतिष्ठित सेवाओं के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और 43 अन्य को उनकी सराहनीय सेवाओं के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया।





रेल मंत्री सुरेश प्रभु

रेल मंत्री सुरेश प्रभु का स्वागत रेलवे सुरक्षा विशेष बल के महानिदेशक एसके भगत ने किया

सुरेश प्रभु ने राष्ट्रपति पदक, पुलिस पदक और बहादुरी पुरस्कार पाने वालों की सराहना करते हुए कहा कि यह दूसरों को इस तरह के मेधावी काम करने के लिए प्रेरित करेगा। उन्होंने कहा कि रेलवे राष्ट्र की जीवन रेखा है। यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करने में आरपीएफ की भूमिका महत्वपूर्ण है। आरपीएफ 2500 मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों को दैनिक रूप से सुरक्षा मुहैया कर रही है। आरपीएफ रेलवे परिसर में नियमित ड्राइव आयोजित कर रहा है।

उन्होंने कहा कि यात्रियों को सुरक्षा संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए एक टि्वटर हैंडल और सिक्योरिटी हेल्पलाइन नं 182 दिन-रात काम कर रही है। 2016 में कुल 18,000 शिकायतों का तुरंत निपटारा किया गया।

रेलवे सुरक्षा विशेष बल

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने शनिवार को रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ) की छठी बटालियन की परेड का निरीक्षण किया

उन्होंने कहा कि आरपीएफ वरिष्ठ नागरिकों, दुर्बल, दिव्यांग, महिलाओं और बच्चों की विशेष चिंता करता है और उसका इस क्षेत्र में सराहनीय काम है। उन्होंने कहा कि यात्रियों के खिलाफ होने वाले अपराध को रोकने के लिए 500 करोड़ रुपये की मदद से 983 रेलवे स्टेशनों पर सीसीटीवी कैमरे लगाये जा रहे हैं। सुरक्षा को मजबूत करने के लिए एकीकृत सुरक्षा प्रणाली लागू की गई है। महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न महिला आरपीएफ अनुरक्षण टीम जैसे भैरवी, वैशाली, शक्ति, निर्भया और तेजस्विनी नाम से कार्य कर रही हैं। महिला यात्रियों के लिए विशेष रूप से एक मोबाइल ऐप भी कार्य कर रहा है।

इस अवसर पर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ए.के. मित्तल और आरपीएफ के महानिदेशक एस.के. भगत सहित कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Comments

Most Popular

To Top