Forces

Offshore निगरानी जहाज आईसीजीएस सुजय कमिशन किया गया

आईसीजीएस सुजय

नई दिल्ली। भारतीय तट रक्षक के महानिदेशक श्री राजेन्द्र सिंह ने आज गोवा में छह 105एम अपतटीय (Offshore) निगरानी जहाज (OPV) की श्रृंखला में छठा भारतीय तट रक्षक जहाज सुजय को कमिशन किया। इस अवसर पर तट रक्षक के अधिकारी, गोवा शिपयार्ड लिमिटेड के सीएमडी तथा केंद्र तथा राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ गणमान्य अतिथि उपस्थित थे।





सुजय का अर्थ है ‘महान विजय’। यह भारतीय तट रक्षक की इच्छाशक्ति और संकल्प को अभिव्यक्त करता है। देश के समुद्री हित की सेवा और रक्षा के लिए जहाज ओडिशा के पारादीप में कमांडर तट रक्षक क्षेत्र (उत्तर-पूर्व) के संचालन और प्रशासनिक नियंत्रण में है।

105 मीटर के इस Offshore जहाज का डिजाइन और निर्माण स्वदेशी गोवा शिपयार्ड लिमिटेड द्वारा किया गया है। जहाज में अत्याधुनिक नौवहन तथा संचार उपकरण, सेंसर तथा मशीनरी लगी है। इसकी विशेषताओं में 30एमएम सीआरएम 91 नेवल गन, एकीकृत ब्रिज प्रणाली (IBS), एकीकृत मशीनरी नियंत्रण प्रणाली (IMCS), विद्युत प्रबंधन प्रणाली (PMS) तथा उच्च शक्ति की अग्निशमन प्रणाली शामिल है। यह जहाज इस तरह डिजाइन किया गया है ताकि एक दोहरे इंजन का हल्का विमान तथा पांच उच्च गति के बोट कार्य कर सकें। त्वरित बोर्डिंग संचालन खोज और बचाव, कानून लागू करने और समुद्री निगरानी के लिए शामिल बोटों में 2 क्विक रिएक्शन पवन बोट शामिल हैं। जहाज समुद्र में तेल बिखराव को नियंत्रित रखने के लिए प्रदूषण अनुक्रिया उपकरण ले जाने में सक्षम है।

जहाज का वजन 2350 टन (GRT) है और इसमें 9100 केवी के दो डीजल इंजन हैं। इसकी अधिकतम गति 23 नोटिकल माइल है और यह सामान्य गति से 6000 नोटिकल माइल तक जा सकता है। निरंतरता और आधुनिक उपकरण तथा प्रणालियों से लैस यह जहाज तट रक्षक के सभी कर्तव्यों को पूरा करने में कमान प्लेटफार्म की भूमिका निभाने में सक्षम है। पारादीप में तटरक्षक बेड़े में शामिल होने के बाद जहाज की तैनाती EEZ निगरानी तथा भारत के समुद्री हितों की रक्षा के लिए तटरक्षक चार्टर में दिए गए कर्तव्यों के लिए की जाएगी। अभी भारतीय तट रक्षक के बेड़े में 134 जहाज और बोट हैं तथा 66 जहाज और बोट देश के विभिन्न शिपयार्डों में निर्माण के विभिन्न चरणों में हैं।

आईसीजीएस सुजय की कमान डिप्टी इंसपेक्टर जनरल योगिन्दर ढाका संभाल रहे हैं और इसमें 12 अधिकारी तथा 94 स्टाफ हैं।

ICGS सुजय के कमीशन किये जाने से विभिन्न समुद्री कार्यों के निष्पादन में भारतीय तट रक्षक की संचालन क्षमता में वृद्धि होगी। अत्याधुनिक OPV शामिल किए जाने से पूर्वी समुद्री क्षेत्र तथा विशेष कर ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल की सुरक्षा को प्रोत्साहन मिलेगा।

Comments

Most Popular

To Top