NDRF

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति ने ‘फानी’ से निपटने की तैयारियों का लिया जायजा

चक्रवाती तूफान 'फानी'

नई दिल्ली। कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति ने चक्रवाती तूफान ‘फानी’ से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के मुख्‍य सचिवों ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिए बैठक में हिस्‍सा लिया। संबंधित केंद्रीय मंत्रालयों व एजेंसियों के आला अधिकारी भी बैठक में शामिल थे।





बैठक के दौरान सभी राज्‍य सरकारों के अधिकारियों ने चक्रवाती तूफान से पैदा होने वाली स्थिति से निपटने के लिए अपनी तैयारियों का ब्‍यौरा दिया। राज्‍य सरकार ने मछुआरों को चेतावनी दी है कि वे फिलहाल समुद्र से दूर रहें। अधिकारियों ने बताया कि 14 जून तक समुद्र में मछली पकड़ने पर मौसमी प्रतिबंध लगाया गया है क्‍योंकि इस मौसम में मछलियां अंडे देती हैं। राज्‍य सरकारों से कहा गया कि वे प्रतिबंध को कारगर तरीके से लागू करें।

गृह मंत्रालय ने राज्‍य सरकारों को आश्‍वस्‍त किया कि उनके आग्रह के मुताबिक एसडीआरएफ की पहली किस्‍त अग्रिम रूप में जारी कर दी जाएगी।

मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान ‘फानी’ इस समय चेन्‍नई के दक्षिण-पूर्व में 880 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आशंका है कि 30 अप्रैल तक इसमें तेजी आएगी और तूफान भीषण रूप ले सकता है। तूफान 1 मई तक उत्‍तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और उसके बाद धीरे-धीरे उत्‍तर-पूर्व की तरफ घूम जाएगा। सरकार पूर्वीतट के राज्‍यों पर पड़ने वाले प्रभाव की कड़ी निगरानी कर रही है।

राष्‍ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) और तट रक्षक को हाई अलर्ट पर रख दिया गया है। दोनों राज्‍य सरकार के अधिकारियों के साथ समन्‍वय कर रहे हैं। राष्‍ट्रीय आपदा मोचन बल और तट रक्षक ने अपनी तैनाती दुरुस्‍त कर ली है। मछुआरों को 25 अप्रैल से लगातार चेतावनी जारी की जा रही है कि वे समुद्र से दूर रहें और जो लोग समुद्र में हैं वे वापस आ जाएं। मौसम विभाग हर 3 घंटे पर संबंधित राज्‍यों को मौसम संबंधी जानकारियां मुहैया कर रहा है। गृह मंत्रालय संबंधित राज्‍य सरकारों और केंद्रीय एजेंसियों के साथ लगातार संपर्क में है।

Comments

Most Popular

To Top