Forces

भूस्खलन में फंसे लोगों को निकालने में जुटी NDRF

देहरादून: उत्तराखंड के चमोली जिले में भारी बारिश होने की वजह से शुक्रवार को विष्णुप्रयाग के पास हाथीपहाड़ में भूस्खलन से बद्रीनाथ हाईवे बंद हो गया है। फिलहाल, राहत बचाव कार्य में एनडीआरएफ (NDRF), स्थानीय प्रशासन, स्थानीय लोग जुटे हुए हैं। हाईवे खोलने की कोशिश जारी है। प्रशासन चमोली में लगातार बारिश मेंं फंसेे पर्यटकों को बचाने की कोशिश में जुटा है।





उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, “लैंड स्लाइड की वजह से 1800 टूरिस्ट प्रभावित हैं। कोई भी फंसा नहीं था और कोई बुरी घटना नहीं हुई। स्थानीय प्रशासन मौके पर मौजूद है और रास्ता साफ करने की कोशिश लगातार जारी है। हाईवे आज खुल जाएगा, इसके पर्याप्त इंताजाम कर दिए गए हैं।”

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, जो टूरिस्ट फंसे हैं उनमें से ज्यादातर चार धाम यात्रा के लिए आए थे। चमोली जिले के रास्ते में एक बड़ी चट्टान के साथ काफी मलबा रास्ते पर गिर गया। फिलहाल स्थानीय प्रशासन ने टूरिस्ट्स से कहा है कि वे जिन जगहों पर हॉल्ट्स बनाए गए हैं, वहां रुकें। इनमें बच्चे और महिलाएं भी हैं। डिजास्टर मैनेजमेंट ग्रुप और एनडीआरएफ की टीमें रेस्क्यू एंड रिलीफ ऑपरेशन में लगी हैं। चार धाम यात्री इसी महीने से शुरू हुई है और जून के आखिर तक चलेगी।

लैंडस्लाइड से सबसे ज्यादा परेशानी बद्रीनाथ और जोशीमठ के इलाके में हुई है जो राजधानी देहरादून से करीब 300 किलोमीटर दूर है। बता दें कि 2013 में बाढ़ और बारिश की वजह से करीब पांच हजार लोगों की मौत हो गई थी। इनमें से ज्यादातर श्रद्धालु थे। कलेक्टर आशीष जोशी के मुताबिक, गुरुद्वारे में ठहरने एवं खाने के तमाम इंतजाम किए गए। यात्रियों को कर्णप्रयाग, नंदप्रयाग, चमोली, पीपलकोटी, जोशीमठ में रोका गया।

Comments

Most Popular

To Top