Navy

स्पेशल रिपोर्ट: भारत और इंडोनेशिया के पोत साझा गश्ती पर

भारत और इंडोनेशिया के पोत गश्त पर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत और इंडोनेशिया की नौसेना अपनी अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा के इलाके में साझा गश्ती का 33वां आयोजन शुरू कर चुके हैं। इस इरादे से इंडोनेशिया के नौसैनिक पोत अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह के  पोर्ट ब्लेयर नौसैनिक अड्डे पर गत 19 मार्च को पहुंचे थे। इन्होंने भारतीय नौसैना के युद्धपोतों के साथ साझा गश्ती का कार्यक्रम 21 मार्च से शुरू किया।





अंडमान द्वीप पर इंडोनेशिया के जो युद्धपोत पहुंचे हैं उनमें युद्धपोत सुलतान थाहा सैइफुद्दीन और समुद्री गश्ती विमान सीएन- 235 शामिल हैं। इंडोनेशियाई नौसैनिक बेड़े की अगुवाई कमाडोर दाफित सांतोसो कर रहे हैं।

इंडिया-इंडोनेशियाई कोआर्डिनेटेड पेट्रोल (इंड- इंडो कोरपैट) नाम से आयोजित इस साझा समुद्री गश्ती की 33वीं कड़ी के उद्घाटन समारोह  के मौके पर भारत में इंडोनेशिया के राजदूत सिदर्धातो रजा सूर्योदिपोरो भी मौजूद थे। यह साझा गश्ती कार्यक्रम 4 अप्रैल तक चलेगा। साझा गश्ती की शुरुआत के मौके पर भारतीय नौसेना के शिष्टमंडल की अगुवाई अडंमान एवं निकोबार कमांड के नेवल कम्पोनेंट कमांडर कमोडोर आशुतोष रिधोरकर ने की।

दोनों देशों के युद्धपोत और विमान अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा के 236 मील के दोनों ओर गश्ती करेंगे। गश्ती का कार्यक्रम  तीन चरणों में  22 मार्च से 31 मार्च तक चलेगा। इस साझा गश्ती अभ्यास का समापन समारोह इंडोनेशिया के बेलावन में एक से चार अप्रैल तक चलेगा।

इस साझा नौसैनिक गश्ती के बारे में यहां नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डी के शर्मा ने बताया कि इसका उद्देश्य हिंद महासागर में भारत की शांतिपूर्ण मौजूदगी  और समुद्र तटीय दोस्त देशों के साथ एकजुटता को रेखांकित करना है ताकि समुद्री इलाके में व्यवस्था बनी रहे और एक दूसरे के साथ तालमेल का माहौल रहे और भारत और इंडोनेशिया के बीच  दोस्ती के मौजूदा बंधनों को और मजबूत किया जाए।

हिंद महासार के इलाके में भारतीय नौसेना के पोत हाल के सालों में तैनात होते रहे हैं ताकि क्षेत्र की समुद्री चिंताओं से निबटा जाए । इसके अलावा भारत सरकार की सागर अवधारणा( सिक्युरिटी एंड ग्रोथ फार आल इन द रीजन) के तहत भारतीय नौसेना हिंद महासागर के तटीय देशों को मदद करती रही है। यह मदद विशेष आर्थिक क्षेत्र की चौकसी, राहत व बचाव और अन्य क्षमता निर्माण गतिविधियों में सहयोग देने के इरादे से होती रही है।

 33वां इंड-इंडो कारपैट का आयोजन भारत और इंडोनेशिया के बीच राजनयिक रिश्तों की स्थापना 70वीं सालगिरह के मौके पर भी होने की विशेष अहमियत है। इसका इरादा समुद्र तटीय देशों के साथ दोस्ती के बंधनों को और मजबूत करना है।

Comments

Most Popular

To Top