Navy

Special Report: नौसेना ने खड़ा किया डार्नियर टोही विमानों का नया स्क्वाडन

डार्नियर टोही विमान
फोटो सौजन्य- गूगल

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना ने डार्नियर टोही विमानो का एक औऱ स्क्वाड्रन चेन्नई में खड़ा कर लिया है। इसकी बदौलत भारत अपने हित के सागरीय क्षेत्रों में अपनी चौकसी क्षमता मे भारी इजाफा करेगा।





नौसेना प्रमुख एडमरिल कर्मबीर सिंह ने मीनमबाक्कम स्थित नेवल एयर इनक्लेव में आयोजित एक आकर्षक समारोह में डार्नियर स्क्वाड्रन को कमीशन किया। इस अवसर पर पूर्वी नौसैनिक कमांड के फ्लैग ऑफिसर कमाडिंग-इन-चीफ वाइस एडमिरल अतुल कुमार जैन और रियर एडमिरल के जे. कुमार और अन्य आला अधिकारी मौजूद थे।

इस मौके पर एडमिरल कर्मबीर सिंह ने कहा कि यह भारत की समुद्री सुरक्षा को मजबूत करने में एक और मीला का पत्थर साबित होगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भारत को अपने प्रतिद्वंदी देशों से आगे रहने की जरूरत है। इस क्षेत्र में जिस तरह भू-सामरिक माहौल तेजी से बदल रहा है इसकी नियमित तौर पर निगरानी करते रहने की जरुरत है। इसलिये जरूरी है कि भारत बंगाल की खाड़ी और आसपास के इलाके में नियमित चौकसी करता रहे।

एडमिरल सिंह ने कहा कि डार्नियर का नया स्क्वाड्रन आईएनएएस-313 जिस इलाके में स्थित है वहां से हिंद महासागर के उत्तरपूर्वी इलाके पर प्रभुत्व स्थापित करने में मदद मिलेगी। गौरतलब है कि डार्नियर विमान का भारत में लाइसेंस उत्पादन यूरोपीय कम्पनी आरयूएजी एरोस्पेश के सहयोग से होता है। यह विमान सागरीय इलाके में टोही भूमिका के अलावा प्राकृतिक आपदा के दौरान खोज और राहत कार्यों में भी मदद करता है।

नौसेना ने ऐसे 12 डार्नियर विमान बनाने का आर्डर हैल को दिया है। ये विमान धीरे-धीरे नौसेना को सौंपे जाएंगे। आईएनएएस- 313 की कमान कमोडोर विवेक कोमान के हाथों सौंपी गई है। कमोडोर कोमान डार्नियर उड़ाने वाले एक अनुभवी टेस्ट पायलट रहे है।

Comments

Most Popular

To Top