Navy

स्पेशल रिपोर्ट: मिलन नौसैनिक अभ्यास अब विशाखापतनम में होगा

मिलन नौसैनिक अभ्यास पर बैठक

नई दिल्ली। पड़ोसी सागरीय देशों की नौसेनाओं के साथ आयोजित होने वाला मिलन नौसैनिक अभ्यास अगली बार विशाखापतनम में आयोजित होगा। यह बहुराष्ट्रीय नौसैनिक अभ्यास अब तक पोर्ट ब्लेयर के निकट अंडमान सागर में आयोजित होता रहा है।





मिलन बहुराष्ट्रीय नौसैनिक अभ्यास 1995 में अंडमान के सागरीय इलाके में  शुरु किया गया था। लेकिन अब अगले साल मार्च में यह साझा अभ्यास विशाखापतनम के निकट आयोजित होगा। इस अभ्यास में 17 देशों की नौसेनाओं के भाग लेने की उम्मीद है।

मिलन साझा बहुराष्ट्रीय नौसैनिक अभ्यास की तैयारी के लिये 17 देशों के 29 नौसैनिक अफसरों की बैठक विशाखापतनम में सम्पन्न हुई। मिलन- 2020  के आय़ोजन के  लिये आयोजित तैयारी बैठक में  हारबर और समुद्री चरण के दौरान होने वाले नौसैनिक अभ्यास के बढ़े हुए दायरे की जानकारी  कमोडोर संजीव इस्सर ने  17 देशों के नौसैनिक प्रतिनिधियों को दी। यहां नौसैनिक अधिकारियों के मुताबिक  मिलन-2020 के आयोजन का उद्देश्य दोस्ताना देशों के नौसैनिकों के बीच  पेशेवर मेलजोल विकसित करना और  समुद्री इलाके में एक दूसरे की श्रेष्ठ प्रक्रियाओं से सीखना है। इस आयोजन से दोस्त देशों की नौसेनाओं के आपरेशनल कमांडरों के बीच  आपसी हितों के मसलों पर विचारों के आदान-प्रदान और आपसी समझ बेहतर करने का मौका मिलेगा।

मिलन नौसैनिक अभ्यास में आस्ट्रेलिया से लेकर दक्षिण पूर्व एशिया और दक्षिण एशिया के देशों की नौसेनाओं के युद्धपोत भाग लेते रहे हैं। इस आयोजन में अगली बार 17 देशों द्वारा भाग लने की पुष्टि करना मिलन नौसैनिक आयोजन की बढ़ती लोकप्रियता का सूचक है।

Comments

Most Popular

To Top