Navy

स्पेशल रिपोर्टः साबांग पहुंच कर भारतीय पोत INS सुमित्रा ने मलक्का में लहरें पैदा कीं

आईएनएस सुमित्रा

नई दिल्ली। सामरिक तौर पर महत्वपूर्ण इंडोनेशिया के साबांग बंदरगाह को विकसित करने का समझौता करने के दो महीने के भीतर ही भारतीय नौसेना के एक युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा ने वहां पहुंच कर मलक्का जलडमरूमध्य में लहरें पैदा कर दी हैं।





गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पिछले इडोनेशिया दौरे में साबांग बंदरगाह को विकसित करने के  लिये वहां निवेश करने के समझौते का ऐलान किया गया था। इस तरह मलक्का जलडमरूमध्य के इलाके में भारत ने अपना युद्धपोत भेजकर इसका नौसैनिक इस्तेमाल शुरू करने का संकेत दे दिया है। गौरतलब है कि मलक्का जलडमरू मध्य हिंद औऱ प्रशांत महासागरों का प्रवेश मार्ग है और यहां पर भारत द्वारा अपनी नौसेना के लिये ठहरने और ईंधन आदि लेने की सुविधा लेने पर दुनिया के सामरिक पर्यवेक्षकों की नजर पड़ी है। मलक्का जलडमरू मध्य के इलाके से होकर चीन का भारी मात्रा में व्यापारिक आवागमन होता है।

साबांग बंदरगाह पर पहला भारतीय युद्धपोत पहुंचने की अहमियत के मद्देनजर इंडोनेशिया सरकार ने इसकी अगवानी के लिये विशेष तैयारी की थी। इस मौके पर इंडोनेशिया के पारम्परिक बैंड और नृत्यकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किये। इस मौके पर इंडोनेशिया में भारत के राजदूत रावत के अलावा इंडोनेशिया के विदेश विभाग के अधिकारी, भारतीय व्यपारी और इंडेनेशिया के नौसैनिक और वायुसैनिक अधिकारी भी मौजूद थे।

Comments

Most Popular

To Top