Navy

खास रिपोर्ट: हिंद प्रशांत इलाके में भारत की बड़ी जिम्मेदारी

मीडियम रेंज सर्फेस टू एयर मिसाइल (MRSAM)
फाइल फोटो

नई दिल्ली: जापान ने कहा है कि हिंद प्रशांत इलाके को खुला और मुक्त रखने में एक विश्व ताकत के तौर पर भारत की बड़़ी जिम्मेदारी है। जापान के विदेश मंत्री कोनो तारो ने भारत के नये नियुक्त विदेश मंत्री एस जयशंकर को बधाई देने के लिये फोन करने के दौरान भारत की बडी जिम्मेदारी का अहसास दिलाया।





गौरतलब है कि प्रशांत और हिंद महासागरों को जोड़ने वाले हिंद प्रशांत इलाके में चीन की विस्तारवादी सैन्य गतिविधियों को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय में चिंता जाहिर की जाती है। इसी के मद्देनजर भारत , जापान, आस्ट्रेलिया और अमेरिका एकजुट साझा बैठकें कर इस मसले पर सलाहमशविरा करने लगे हैं। इसकी एक ताजा बैठक पिछले सप्ताह ही बैंकाक में हुई है।

जापानी विदेश मंत्री कोनो ने कहा कि इस साल जापानी प्रधानमंत्री के भारत दौरे की बारी है। उन्होंने कहा कि वह भारतीय विदेश मंत्री के साथ बेहतर तालमेल और सम्पर्क रखेंगे। विदेश मंत्री कोनो ने भारतीय विदेश मंत्री को नवम्बर में जी-20 के विदेश मंत्रियों की बैठक में भाग लेने के लिये आमंत्रित किया।  उन्होंने कहा कि भारत और जापान के विदेश और रक्षा मंत्रियों के बीच टू प्लस टू बैठक के लिये जल्द कार्यक्रम तय करेंगे।

जापानी दूतावास के प्रवक्ता के मुताबिक जवाब में भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि वह विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर जापानी विदेश मंत्री से मिलना चाहेंगे। उन्होंने कहा कि जापानी विदेश मंत्री के सहयोग से भारत के साथ सहयोग के रिश्तों को और विस्तार देंगे।  उन्होंने कहा कि भारत और जापान के बीच विशेष रिश्ते बन चुके हैं।

गौरतलब है कि जून में जापान में होने वाली जी-20 शिखर बैठक में भाग लेने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जाएंगे। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद उनसे कई अग्रणी  विश्व  नेता अंतरराष्ट्रीय मंचों पर  दिवपक्षीय मुलाकातों के लिये मिलने को आतुर होंगे।

 

Comments

Most Popular

To Top