Navy

स्पेशल रिपोर्ट: भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान को झुकने को मजबूर किया

भारतीय नौसेना 
फाइल फोटो

नई दिल्ली। यहां तीन दिनों तक चले  नौसेना के छमाही कमांडर सम्मेलन के दौरान रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने नौसेना की मौजूदा समाघात तैयारी की समीक्षा की और इसके आधुनिकीकरण के लिये चल रहे कार्यक्रमों का लेखाजोखा लिया। कमांडरों का सम्मेलन 23 से 25 अप्रैल तक चला। इस दौरान रक्षा मंत्री ने इशारों में  कहा कि किस तरह नौसेना ने पाकिस्तान को झुकने को मजबूर किया।





नौसैनिक कमांडरों के सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने  नौसेना द्वारा  उच्च ऑपरेशनल स्तर बनाए रखने की सराहना की औऱ कहा कि नौसेना ने न केवल अपने समुद्री इलाके में भारत के हितों को बचाया है बल्कि इसने अपने प्रतिद्वंद्वी को झुकने को भी मजबूर करने में कामयाबी पायी जैसा कि  हमने हाल के सैन्य तनाव के दौरान देखा है। रक्षा मंत्री ने  पाकिस्तान का नाम  लिये बिना कहा कि हाल की  सैन्य तनातनी के दौरान यह साफ दिखा।

स्वदेशीकरण के क्षेत्र में नौसेना के प्रयासों की उन्होंने सराहना की और कहा कि नौसेना ने भारत सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम को बढ़ावा दिया है।  भारत सरकार के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के अनुरूप डिजिटल नेवी विजन हासिल करने के लिये उन्होंने नौसेना की सराहना की।

सम्मेलन के दौरान रक्षा मंत्री ने कमांडरों के साथ विभिन्न मसलों पर गहन चर्चा की।  नौसेना के लिये विभिन्न युद्धपोतों को हासिल करने की प्रगति की भी उन्होंने कमांडरों के साथ समीक्षा की। ऊन्होंने नौसैनिक कमांडरों से आग्रह किया कि अपने संसाधनों का सक्षम इस्तेमाल करें ताकि  यह समुद्री इलाके में किसी भी चुनौती का मुकाबला करने के लिये हमेशा तैयार रहे।

कमांडरों के सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने  ऑपरेशनल तैयारी, क्षमता बढ़ोतरी, नौसैनिक संसाधनों का सक्षम इस्तेमाल और मानव संसाधन प्रबंध के बारे में चर्चा की। हिंद महासागर में  नेट सिक्योरिटी प्रोवाइडर औऱ मानवीय सहायता में सबसे पहले मदद पहुंचाने वाली नौसेना की भूमिका की भी सम्मेलन के दौरान चर्चा की गई। समुद्री इलाके के बारे में समग्र जानकारी हासिल करने के लिये क्षेत्रीय नौसेनाओं के साथ सहयोग पर भी चर्चा की गई।

हिंद महासागर नौसैनिक गोष्ठी (आईओएनएस) के कोच्चि में हाल में हुए आयोजन जैसे कदमो की भी इस बारे में चर्चा की गई। इनके जरिये भारत अपनी रक्षा कूटनीति को बढ़ावा दे रहा है। कमांडर सम्मेलन का अगला छमाही सम्मेलन अक्टूबर या नवम्बर में होगा।

Comments

Most Popular

To Top