Navy

स्पेशल रिपोर्ट: नौसेना प्रमुख ब्रिटेन के अहम दौरे पर

नौसेना प्रमुख सुनील लांबा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। नौसेना प्रमुख और तीनों सेनाघ्यक्षों की कमेटी के अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा शाही ब्रिटिश नौसेना के प्रमुख के निमंत्रण पर 12 से 15 मार्च तक ब्रिटेन के दौरे पर जाएंगे।





यहां नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डी के शर्मा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस दौरे से भारत और ब्रिटेन के बीच मौजूदा समुद्री सहयोग कार्यक्रमों को मजबूती मिलेगी और नई सम्भावनाओं को तलाशने का मौका मिलेगा।  प्रवक्ता ने कहा कि एडमिरल लांबा का दौरा  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नवम्बर, 2015 के ब्रिटेन दौरे में जो सहमति हुई थी उसे नौसेना प्रमुख के दौरे में आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

 भारतीय नौसेना के ब्रिटिश नौसेना के साथ पारम्परिक रिश्ते रहे हैं। दोनों देशों के बीच आपसी रिश्तों को मजबूती देने के लिये विभिन्न क्षेत्रों के मंचों को संस्थागत स्वरूप देने से आपसी सम्बन्ध काफी आगे बढ़े हैं। साल 1995 में भारत ब्रिटेन रक्षा सलाहकार ग्रुप और मिलिट्री सब ग्रुप के गठन के बाद से दोनों देशों के बीच सहयोग के लिये दो स्तरीय ढांचा बना है जिससे विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग में तेजी आई है।

वर्ष 2004 में दोनों देशों ने सामरिक साझेदारी का समझौता किया जिसमें रक्षा सहयोग को प्रमुखता दी गई। सेना के  स्तर पर स्टाफ वार्ता फोरम का गठन किया गया जिसे एक्जीक्यूटिव स्टीयरिंग ग्रुप कहा जाता है। दोनों देशों की सेनाओं के बीच सहयोग को गहरा करने में इस ग्रुप की भूमिका  होती है। भारत और ब्रिटेन की नौसेनाएं हिंद महासागर नेवल सिम्पोजियम में साझेदार हैं। भारतीय नौसेना ने 2008 में इसकी रूपरेखा तैयार कर इस समुद्री सहयोग मंच में अपनी भूमिका निभाई थी। दोनों नौसेनाएं कई मुद्दों जैसे ट्रेनिंग, सिद्धांत और समुद्री स्थिति चेतना के बारे में भी आपसी सहयोग करती हैं।

 तीन दिनों के दौरे में एडमिरल लांबा लंदन में  ब्रिटेन के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ से आपसी और अंतरराष्ट्रीय मसलों पर बातचीत करेंगे। वह पोर्ट्समाउथ में  ब्रिटेन के फर्स्ट सी लार्ड और शाही नौसेना के चीफ ऑफ स्टाफ से मुलाकात करेंगे। वह लंदन में अंतरराष्ट्रीय सामरिक अध्ययन संस्थान(आईआईएसएस) के अलावा ग्लासगो में पनडुब्बी बचाव सुविधा का दौरा करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top