Navy

स्पेशल रिपोर्ट: नौसेना के सम्मेलन में वायु और थलसेना प्रमुख भी

एडमिरल सुनील लांबा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। यहां बुधवार से शुरू हो रहे छमाही नौसैनिक कमांडर सम्मेलन के दौरान तीनों सेनाओं के बीच आपसी तालमेल से समन्वित युद्ध लड़ने की रणनीति को और पुख्ता करने के इरादे से थलसेना और वायुसेना के प्रमुखों को भी आमंत्रित किया गया है और इस दौरान  उनके विचार और योजनाओं  पर चर्चा की जाएगी।  तीनों सेनाओं के छमाही सम्मेलनों के दौरान दूसरी सेनाओं के प्रमुखों को आमंत्रित करने की एक नई परम्परा शुरू की गई है।





गौरतलब है कि गत 11 अप्रैल को वायुसेना के कमांडर सम्मेलन के दौरान भी नौसेना और थलसेना के प्रमुखों को आमंत्रित किया गया था। इस दौरान तीनों सेना प्रमुखों के सम्बोधन के  बाद भारतीय सीमाओं पर ऑपरेशनल माहौल का विश्लेषण  किया जाएगा। देश की सम्प्रभुता और सार्वभौमिकता को बचाने के इरादे से खतरों से निबटने के उपायों पर साझा चर्चा की जाएगी।

23 अप्रैल को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण नौसैनिक कमांडर सम्मेलन को सम्बोधित करेंगी और इसके बाद नौसेना प्रमुख नौसेना की समाघात तैयारी और आसपास के सुरक्षा माहौल का अपना आकलन पेश करेंगे। 25 अप्रैल तक चलने वाले नौसैनिक कमांडर सम्मेलन के दौरान ऑपरेशनल, मटीरियल, लॉजिस्टिक्स, मानव संसाधन, ट्रेनिंग और प्रशासनिक मसलों पर  नौसैनिक अधिकारी चर्चा करेंगे। यह सम्मेलन नौसैना के आला कमांडरों और रक्षा मंत्रालय के आला अधिकारियों के बीच संस्थागत चर्चा का एक मंच भी प्रदान करता है।

पुलवामा पर आतंकी हमले के बाद के घटनाक्रम के मद्देनजर इस सम्मेलन की अहमियत काफी बढ़  गई है। इस दौरान देश की सुरक्षा से जुड़े मसलों पर गहरी चर्चा होने लगी है। यह सम्मेलन देश के उच्च नेतृत्व को एक ऐसा मंच प्रदान करेगा जहां  समुद्री इलाके में देश के सामने उभरती चुनौतियों पर चर्चा की जाएगी। इसकी पृष्ठभूमि में देश के सामने उभरते भूसामरिक माहौल के मद्देनजर नई रणनीति  के विकास पर भी नौसैनिक अधिकारी चर्चा केरेंगे।

 सम्मेलन  के दौरान नौसेना के लिये नई क्षमता हासिल करने पर भी खास चर्चा रखी गई है। चूंकि भारतीय नौसेना को अब हिदं महासागर के इलाके में नेट सिक्युरिटी प्रोवाइडर माना जाने लगा है इसलिये  नौसेना द्वारा हाल में किये गए मानवीय राहत व बचाव कार्य के मद्देनजर नौसेना की भूमिका और अन्य समुद्री सुरक्षा पहल जैसे मसलों पर भी विचारों का आदान प्रदान होगा।

Comments

Most Popular

To Top