Forces

नौसेना के लिए विमान के सौदे पर है MIG की नजर

MIG- 29K लड़ाकू विमान

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना के लिए अरबों डॉलर के लड़ाकू विमान आपूर्ति सौदे पर रूस की सैन्य विमान निर्माता कंपनी MIG की नजर है। मिग ने कहा कि वह तकनीक के हस्तांतरण और भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर MIG- 29K लड़ाकू विमान के संयुक्त प्रोडक्शन के खिलाफ नहीं है।





मिग के सीईओ इल्या तारासेंको ने कहा कि उनकी कंपनी जल्द ही भारत सरकार के सामने प्रस्ताव रखेगी जिसमें भारतीय नौसेना के लिए संयुक्त रूप से विमान के विकास के मद्देनजर विस्तृत तौर पर बताएगी। तारासेंको ने एक इंटरव्यू में कहा कि हम आपसी सहयोग के लिए विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। इसमें मेक इन इंडिया प्रोग्राम की रूपरेखा भी शामिल है।

सीईओ तारासेंको के मुताबिक मिग भारतीय रक्षा बलों के साथ 50 से ज्यादा वर्षों से काम कर रही है और विमान आपूर्ति के साथ-साथ सेवा मुहैया करा रही है। उन्होंने कहा कि रूस भारत का अहम साझेदार है और हथियारों और सैन्य सामग्रियों का महत्वपूर्ण निर्यातक है। जून में तत्कालीन रक्षा मंत्री अरुण जेटली के रूस दौरे में तकनीक हस्तांतरण और अत्याधुनिक हथियारों के संयुक्त विकास के मसले पर वार्ता हुई थी। तारासेंको ने कहा कि भारतीय नौसेना के लिए MIG- 29K सर्वश्रेष्ठ विकल्प है।

उन्होंने कहा कि इस विमान ने हाल में सीरिया में शानदार नतीजे दिए हैं जिनमें जमीन पर स्थित लक्ष्यों पर हमले शामिल हैं। गौरतलब है कि इस साल जनवरी में नौसेना ने अपने जहाजों के लिए 57 बहुद्देशीय लड़ाकू विमानों की खरीद की प्रक्रिया को हरी झंडी दी थी। इसके लिए लड़ाकू विमान निर्माताओं के लिए रिक्वेस्ट फॉर इंफॉर्मेशन (RFI) जारी किया था। अभी विमानवाहक पोत के लिए छह विमान अनुकूल हैं, जिनमें राफेल (Dassault , फ्रांस), एफ- 18 सुपर हॉर्नेट (बोइंग अमेरिका), MIG- 29K (रूस), F- 35B(लॉकहीड मार्टिन, अमेरिका), ग्राइपेन (साब, स्वीडन) शामिल हैं। एफ- 18, राफेल और मिग- 29के दो इंजन वाले विमान हैं जबकि शेष एक ही इंजन वाले लड़ाकू विमान हैं। बहरहाल, अभी भारतीय नौसेना के पास 45 मिग- 29के विमान हैं।

 

 

 

Comments

Most Popular

To Top