Forces

मारकोस और एनएसजी कमांडोज ने पहली बार एक साथ ऐसे दिखाई जांबाजी !

संयुक्त अभ्यास

नई दिल्ली/कोच्चि: मारकोस (MARCOS) और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) ने आज भारतीय नौसेना के दक्षिण कमान के मुख्यालय कोच्चि में संयुक्त अभ्यास किया। ये अभ्यास के साथ-साथ प्रशिक्षण का भी हिस्सा था। इस अभ्यास का मकसद किसी भी तरह की संयुक्त कार्रवाई के दौरान एक दूसरे के ऑपरेशन को समझते हुए तालमेल बिठाना सीखना और एकजुटता को कायम रखना है। NSG के चेन्नई स्थित हब के कमांडो अभ्यास में शामिल हुए।





नौसेना के प्रवक्ता के मुताबिक NSG की टीम से दो अधिकारी, 4 जेसीओ (JCOs) और 30 कमांडो इस अभ्यास में थे जबकि नौसेना की तरफ से 20 मारकोस थे। इन मारकोस में दो अधिकारी भी शामिल थे। ये अपनी तरह का पहला संयुक्त अभ्यास था जिसमें आतंकवादियों से मुकाबले को लेकर बंधक बनाए गए VIP को छुड़ाने जैसे तौर तरीके अपनाए गए।

संयुक्त अभ्यास

अभ्यास : आतंकियों के चंगुल से बंधकों को मुक्त कराने के लिए मारकोस और एनएसजी के कमांडो ऐसे उतारे गए

संयुक्त अभ्यास से पहले एनएसजी-मारकोस के कमांडो

सुरक्षा और रक्षा जानकारों का मानना है कि इस तरह के अभ्यास सामरिक व आंतरिक सुरक्षा के मद्देनजर बेहद अहम होते हैं। इससे न सिर्फ अलग अलग संगठनों और बलों को एक-दूसरे की क्षमता मदद करती है और तालमेल बढ़ता है बल्कि उन क्षमताओं का अधिकतम इस्तेमाल करने की संभावनाएं तलाशने में भी मदद मिलती है।

मारकोस (MARCOS) असल में नौसेना की मेरीन कमांडो फोर्स (MCF) है। इसके कमांडो जल, थल, वायु तीनों परिस्थितियों के बीच कार्रवाई करने में प्रशिक्षित होते हैं। युद्ध से लेकर आंतरिक सुरक्षा के तमाम तरह के ऑपरेशन कर पाने में सक्षम MARCOS का नाम विश्व की चुनिंदा कमांडो फोर्सेस में शामिल है।

Comments

Most Popular

To Top