DEFENCE

नौसेना का 3 दिनी संयुक्त सैन्य आपदा राहत अभ्यास

भारतीय नौसेना

मुम्बई। पश्चिमी नौसेना कमान के तत्वावधान में आज से 20 मई तक करवार में भारतीय नौसेना द्वारा एक वार्षिक संयुक्त मानवीय सहायता और आपदा राहत अभ्यास (HADR) का आयोजन किया जा रहा है। प्रशिक्षण का सम्पूर्ण समन्वय हेडक्वाटर्स इंटीग्रेटेड डिफेंस स्टाफ और इंटीग्रेटेड हेडक्वाटर्स मिनिस्ट्री आफ डिफेंस नेवी, नई दिल्ली द्वारा किया जाएगा। ऐसे संयुक्त HADR प्रशिक्षण प्रतिवर्ष आपदा प्रबंधन योजनाओं के लिए आपदा राहत कार्यों से जुड़ी सभी एजेंसियों को शामिल कर आयोजित किया जाता है।





सुनामी के बाद जैसा राहत कार्य किया जाएगा तट पर

इस साल के प्रशिक्षण को ‘करावली करुन्या’ कोडनाम दिया गया है जिसका अर्थ है ‘कर्नाटक के तट के लिए सहायता।’ सुनामी परिदृश्य के बाद सशस्त्र बल, केंद्रीय और राज्य सरकार की एजेंसियां एक साथ मिलकर राहत कार्य करेंगी। इस अभ्यास को दो फेस में बांटा गया है पहले में सुनामी प्रभावित तटों पर कार्य किया जाएगा।

सेमिनार और प्रदर्शनी भी शामिल

इस वर्ष के प्रशिक्षण में कई गतिविधियों को शामिल किया गया है। एक टेबल-टॉप प्रशिक्षण सेमिनार आयोजित किया जाएगा, जिसमें सुनामी जैसी बड़े पैमाने की आपदा झेल चुके लोगों से उनके अनुभव साझा किए जाएंगे। साथ ही विभिन्न मौजूदा मानक संचालन प्रक्रिया की समीक्षा और पुष्टि की जाएगी। सुनामी के बाद के राहत प्रबंधन के लिए उपयोग किए जाने वाले आधुनिक हाईटेक उपकरणों का विभिन्न एजेंसियों द्वारा प्रदर्शन भी किया जाएगा। इस प्रदर्शन में इन्डियन एयरफोर्स, भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल के हेलिकॉप्टर भी शामिल होंगे।

बेघरों के लिए बनाया जाएगा आवास शिविर

भारतीय नौसेना और भारतीय सेना द्वारा संयुक्त रूप से रबींद्रनाथ टैगोर बीच पर जिला प्रशासन के सहयोग से बेघर व्यक्तियों के लिए आवास शिविर की स्थापना की जाएगी। इस कैंप को सर्वसाधारण के लिए खोल दिया जाएगा। इस अभ्यास को प्राकृतिक आपदा के बाद सिविल मिल्ट्री के आपदा राहत प्रयासों मे सहायता देने के उद्देश्य से किया जा रहा है।

Comments

Most Popular

To Top