Navy

नौसेना और सीएसआईआर के बीच सहयोग का समझौता

भारतीय नौसेना

नई  दिल्ली।  भारतीय नौसेना ने अपने लिए अडवांस्ड तकनीक वाली प्रणालियों के विकास के लिये वैज्ञानिक और औद्योगिक शोध परिषद (CSIR) के साथ सहयोग का  समझौता किया है। इसके तहत सीएसआईआर की प्रयोगशालाएं उद्योग जगत और नौसेना के साथ मिल कर तकनीक का विकास करने के लिये आपसी सहयोग करेंगी।





इस आशय के सहमति ज्ञापन पर नौसेना के चीफ ऑफ मेटीरियल वाइस एडमिरल जी एस पैबी और सीएसआईआर के महानिदेशक शेखर सी मांडे ने दस्तखत किये। इस मौके पर सीएसआईआर की 07 प्रयोगशालाओं के निदेशक भी मौजूद थे। इनके अलावा नौसेना के महानिदेशालयों के प्रमुख अधिकारी भी मौजूद थे। सहमति के ज्ञापन के जरिये नौसेना और सीएसआईआर के बीच सहयोग की विस्तृत रुपरेखा तैयार की गई है। इस समझौते के तहत नौसेना को मैकेनिकल, इलेक्ट्रानिक्स, कम्युनिकेशन, कम्प्यूटर साइंस, प्रोपल्सन सिस्टम्स ,मैटेलर्जी और नैनो टेकनॉलोजी की प्रणालियां विकिसत की जाएंगी।

इस मौके पर वाइस एडमिरल पैबी ने सीएसआईआऱ के महानिदेशक मांडे को बधाई दी कि सीएसआईआऱ ने वैज्ञानिक शोध के क्षेत्र में देश की उत्कृष्ट  सेवा की है। उन्होने कहा कि सीएसआईआर द्वारा भविष्य की कई तकनीक पर काम किया जा रहा है जिससे नौसेना की समाघात क्षमता को बढ़ाने में भारी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि देश के अग्रणी वैज्ञानिक संस्थान के साथ नौसेना की साझेदारी की विशेष जरुरत महसूस की जा रही थी। इस सहयोग समझौते से मेक इन इंडिया को भी भारी बढ़ावा मिलेगा।

सहयोग समझौते के तहत नौसेना और सीएसआईआर के इंजीनियर औऱ वैज्ञानिक समुद्री पानी को साफ करने की वैकल्पिक तकनीक, गैस टरबाइन जेनरेटर ब्लेड आदि की गुणवत्ता बेहतर करने पर काम शुरू किया जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top