Army

भटके युवाओं के लिए कश्मीर में चलेगा ‘ऑपरेशन मां बुला रही है’

ऑपरेशन-मां-बुला-रही-है, कश्मीर

आतंकी बने युवाओं को वापस लाने के लिए ‘मौज छय नाद दिवान’ (मां बुला रही है) अभियान भी चलाया जाएगा। इसके तहत उन मां के दर्द का भी गाने आदि के जरिए जिक्र किया जाएगा जो अपने बेटे के आतंकी बनने के बाद से दुखी हैं।

श्रीनगर: धरती का स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर को आतंकवाद से मुक्त बनाने के लिए सुरक्षा एजेंसियों ने कमर कस ली है। 2017 में कश्मीर को आतंकवाद के दंश से मुक्त कराने के लिए सुरक्षा एजेंसियां घाटी के ‘भटके युवाओं’ और लोगों के मन में जागरूकता फैलाने का काम करेंगी। रास्ता भटके युवाओं को मुख्य धारा में वापस लाने के लिए ‘मौज छय नाद दिवान’ यानि ‘ऑपरेशन मां बुला रही है’ अभियान भी चलाया जाएगा। इसके तहत उन मां के दर्द का भी गाने आदि के जरिए जिक्र किया जाएगा जो अपने बेटे के आतंकी बनने के बाद से दुखी हैं।





क्या करेंगी सुरक्षा एजेंसियां

  • स्थानीय आतंकियों को सरेंडर करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।
  • विदेशी जिहादियो को जिंदा पकड़कर घाटी के युवाओं को उनके जरिए जिहाद की आड़ में पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के नापाक इरादों से अवगत कराया जाएगा।
  • केंद्र और राज्य सरकार मिलकर घाटी को आतंकवाद मुक्त बनाएंगे।
  • सुरक्षा बलों के साथ-साथ राज्य सरकार की पुलिस का भी रहेगा विशेष रूप से साथ।
  • यह रणनीति घाटी में बीते वर्ष पत्थरबाजी में शामिल युवाओं से हुई पूछताछ के बाद बनाई गई है।
  • रणनीति के तहत पूरी घाटी में जिहादी तत्वों के खिलाफ जागरूकता पैदा की जाएगी।
  • रणनीति के तहत मजहबी संगठनों और उलेमाओं से भी मदद ली जाएगी। उनके जरिए भी युवाओं को जिहाद के असली मायने, खून-खराबे से इस्लाम को होने वाले नुकसान के बारे में बताया जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top