DEFENCE

सीमा पर दोस्ताना माहौल बनाए रखने को लेकर भारत-चीन के बीच हुई मीटिंग

अजीत डोभाल

नई दिल्ली। भारत और चीन ने संबंधित सीमाई क्षेत्रों में शांति-व्यवस्था बनाए रखने को लेकर सहमति जताई है। दोनों देशों का मानना है कि विकास के लिए द्विपक्षीय संबंध काफी अहम हैं। इंडो-चाइना बॉर्डर मामलों में वर्किंग मेकानिज्म ऑन कंसल्टेशन एंड कोऑर्डिनेशन (WMCC) की मीटिंग का 11वां राउंड गुरुवार को नई दिल्ली में संपन्न हुआ। उच्च स्तरीय बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व प्रणय वर्मा ने किया जिसमें संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया), विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि शामिल थे जबकि चीन प्रतिनिधिमंडल की ओर से यी शियानलियांग जो डिपार्टमेंट ऑफ बाउंडरी एंड ओशियेनिक अफेयर के डायरेक्टर जनरल शामिल थे।





दोनों देशों के बीच यह चर्चा दोस्ताना माहौल में संपन्न हुई। दोनों पक्षों ने सीमा प्रबंधन को सुधारने के दिशा में परस्पर अपने अपने विचारों को जाहिर किया। मीटिंग में सीमा कर्मियों के बीच परस्पर विश्वास और समझ के स्तर को और बढ़ाने के उद्देश्य पर भी चर्चा हुई।

दोनों देशों के रक्षा बलों के बीच बेहतर समझ और सहयोग को बढ़ावा देने के लिए यात्राओं और संस्थागत संवाद तंत्र को मजबूत करने की संभावना पर भी सहमति जताई। WMCC  की स्थापना भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में शांति-व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से वर्ष 2012 में एक संस्थागत तंत्र के रूप में की गई थी।

रक्षक न्यूज की राय: 

यह दूरगामी और सार्थक पहल है कि भारत-चीन दोनों ही देश सीमा को लेकर तनाव दूर करने पर सहमत हो रहे हैं। डोकलाम विवाद और समय-समय पर अन्य घटनाओं से दोनों देशों के बीच जो तनातनी व खटास का वतावरण था उसे दूर कर ही शांति के साथ रहा जा सकता है। और शांति का रास्ता ही विकास व समृद्धि की फसल उगात है, ये बात दोनों देशों को विशेष रूप से ध्यान में रखनी होगी।

Comments

Most Popular

To Top