Army

पिता लेफ्टिनेंट जनरल से रिटायर, बेटा जनरल बना

बिपिन रावत इंडियन आर्मी के अगले चीफ होंगे। बिपिन रावत 26वें आर्मी चीफ की शपथ 1 जनवरी 2017 को लेंगे। बिपिन रावत मूल रूप से उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के रहनेवाले है।

राजपूत परिवार में पैदा हुए बिपिन रावत मूल रूप से उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के रहने वाले हैं। उन्होंने IMA देहरादून से ग्रेजुएशन की है और दिसंबर 1978 में सेना में शामिल हुए। उनकी कई पीढ़ियां सेना में रही हैं। उनके पिता एल. एस. रावत लेफ्टिनेंट जनरल के पद से रिटायर हुए। नए आर्मी चीफ बिपिन रावत को पाकिस्तान-चीन बॉर्डर के मामलों में महारत है। वह कश्मीर और पूर्वोत्तर मामलों के भी विशेषज्ञ माने जाते हैं।





चीन-पाकिस्तान सीमा के अलावा रावत ने पूर्वोत्तर में घुसपैठ रोधी अभियानों में दस साल काम किया। वह दलबीर सिंह सुहाग के बाद गोरखा बटालियन से आर्मी चीफ बनने वाले लगातार दूसरे अधिकारी हैं। बिपिन रावत अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM) युद्ध सेवा मेडल (YSM), सेना मेडल (SM), विशिष्ट सेवा मेडल (VSM) से सम्मानित हैं। जनरल बिपिन रावत को लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बख्शी और लेफ्टिनेंट जनरल मोहम्मद अली हारीज की जगह प्राथमिकता देकर आर्मी चीफ बनाया गया।

आर्मी चीफ बिपिन रावत के बारे

  • 2011 में चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी (मेरठ) से मिलिट्री मीडिया स्टडीज में पीएचडी
  • पहली नियुक्ति 13 जनवरी 1979 को मिजोरम में
  • नेफा (NEFA) इलाके में तैनाती के दौरान बटालियन की अगुवाई की
  • कांगो में संयुक्त राष्ट्र की शांति सेना की अगुवाई
  • 1 सितंबर 2016 को सेना के उप-प्रमुख बने

Comments

Most Popular

To Top