Army

आतंकी से जांबाज सैनिक बन देश के लिए दी कुर्बानी, 21 बंदूकों की सलामी के साथ अंतिम विदाई

लांस नायक नजीर अहमद वानी

श्रीनगर। आतंक का साथ छोड़ देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले लांस नायक नजीर अहमद वानी को सोमवार को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। बता दें कि यह कहानी एक आतंकवादी के देशभक्त बनने और सेना में शामिल होकर आतंकियों के खिलाफ अभियान में डटकर सेना का साथ देने की है। शोपियां में ऑपरेशन ऑल ऑउट में सुरक्षाबलों ने 06 आतंकी मार गिराए थे। इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान लांस नायक नजीर अहमद वानी शहीद हो गए थे।





लांस नायक का पार्थिव शरीर तिरंगे में लपेट कर कुलगाम में उनके पैतृक गांव अशमुजी लाया गया और उनके परिजनों को सौंपा गया। सेना के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि वानी शुरुआत में एक आतंकवादी थे पर उन्होंने आत्मसमर्पण कर भारतीय सेना ज्वाइन किया था।

अधिकारी ने बताया कि परिवार के आंसू रूकने का नाम नहीं ले रहे। उन्होंने कहा कि हमें इस बात का गर्व है कि वानी के देश और राज्य की शांति के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। लांस नायक वानी को सुपुर्द-ए-खाक करते वक्त 21 बंदूकों की सलामी दी गई।

 

Comments

Most Popular

To Top