Forces

लिंग परिवर्तन कराने वाले नेवी कर्मचारी को मिला नौकरी का अवसर

नई दिल्ली। लिंग परिवर्तन कराने की वजह से भारतीय नौसेना से हटाए गए कर्मचारी को नौसेना ने निजी कम्पनी में नौकरी देने का अवसर दिया है। नौसेनिक मनीष गिरी पिछले वर्ष सेक्स चेंज करवाकर पुरुष से महिला बन गए थे। नेवी ने उन्हें नियमों को तोड़ने का दोषी पाया और उन्हें उनके पद से हटा दिया था। हाईकोर्ट में बुधवार को नौसेना ने कहा कि पूर्व सैनिक के लिए निजी कम्पनी में डाटा एंट्री की नौकरी की व्यवस्था की गई है।





हाईकोर्ट में दी है चुनौती

जस्टिस जी.एस. सिस्तानी और वी कामेश्वर राव की पीठ के समक्ष अधिवक्ता अनिल सोनी ने कहा कि पूर्व नौसेनिक के लिए नौसेना में कोई काम नहीं है। इस पर पूर्व सैनिक के वकील ने कहा है कि वह अपने मुवक्किल से बात करेंगे कि वह यह नौकरी करना चाहेंगे या नहीं। पूर्व सैनिक ने नौकरी से निकाले जाने को हाईकोर्ट में चुनौती दी है।

ताकि परिवार को न हो परेशानी

हाई कोर्ट ने इस सम्बन्ध में कहा था याचिकाकर्ता को नेवी में नाविक के कार्य के लिए दावा नहीं कर सकता वह लिपिक पद स्वीकार कर सकता है ताकि उसका परिवार प्रभावित न हो।

सेक्स चेंज ऑपरेशन के बाद मनीष का नया नाम साबी हो गया था। जिस समय उन्होंने सेक्स चेंज ऑपरेशन करवाया वह उस वक्त छुट्टी पर थे। इंडियन नेवी ने नाविक मनीष गिरी को सस्पेंड कर दिया है।नियम तोड़ने का दोषी पाए जाने पर नौसेना ने उन्हें नौकरी से निकाल दिया था।

Comments
To Top