Army

भारत, चीन और म्यांमार ट्राइजंक्शन पर भारतीय सैनिकों ने गश्त बढ़ाई

गश्त करते जवान
गश्त करते जवान (सौजन्य- Rediff)

अरुणाचल प्रदेश में चीन सीमा के पास भारतीय सैनिकों ने भारत, चीन और म्यामांर के ट्राइजंक्शन के पास गश्त बढ़ा दी है ताकि डोकलाम की तरह कोई भी गतिरोध न हो। मीडिया खबरों में सेना के शीर्ष अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि तिब्बत के पास वालोंग से तकरीबन 50 किलोमीटर दूर स्थित ट्राइजंक्शन पहाड़ी दर्रों और अन्य इलाकों में अपना प्रभुत्व बरकरार रखने के लिहाज से भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। सेना के एक अधिकारी के मुताबिक डोकलाम गतिरोध के बाद ट्राइजंक्शन पर भारत की मौजूदगी बढ़ा दी गई है।





सेना के अधिकारी के मुताबिक चीन ने ट्राइजंक्शन इलाके के आसपास सड़कें बना ली हैं ताकि जरूरत के वक्त सैनिकों को आसानी से पहुंचाया जा सके। वर्ष 1962 में भारत-चीन युद्ध के वक्त लोहित नदी के किनारे वालोंग में भारतीय सैनिकों ने अदम्य साहस का परिचय दिया था। हाल के वर्षों में म्यांमार के साथ सैन्य संबंध बढ़ना भी ट्राइजंक्शन पर भारतीय सैनिकों की मौजूदगी बढ़ाने का कारण है। म्यांमार के सैनिक ट्राइजंक्शन पर गश्त नहीं करते। सिक्किम सेक्टर के डोकलाम में टाइजंक्शन के बाद भारत-चीन सीमा पर यह सबसे महत्वपूर्ण ट्राइजंक्शन है।

खबरों के मुताबिक भारत ने ट्राइजंक्शन के पास लोहित घाटी के तमाम इलाकों में अपनी उपस्थिति बढ़ा दी है। इस इलाके के 18 पहाड़ी दर्रों पर सेना नियमित रूप से लंबी गश्त करती है।

 

Comments

Most Popular

To Top