Forces

नौसेना को मिला एक और एलसीयू पोत

युद्धपोत एलसीयू- एल-54

नई दिल्ली। दुश्मन के समुद्र तट पर मुख्य युद्धक टैंकों, बख्तरबंद वाहनों औऱ ऐसे ही भारी लड़ाकू वाहनों को उतारने वाला युद्धपोत एलसीयू- एल-54 पोर्ट ब्लेयर में नौसेना को सौंपा गया। य़ह पोत देश में ही डिजाइन और निर्मित किया गया है।





लैंडिंग क्राफ्ट यूटीलिटी (एलसीयू) वर्ग का यह युद्धपोत 830 टन विस्थापन क्षमता का है। इस पर पांच नौसैनिक अफसर और 41 नाविक सवार हो सकते हैं। इसके अलावा पोत पर 160 लड़ाकू सैनिकों को भी दुश्मन के तट पर उतारा जा सकता है। नौसेना में शामिल करने के बाद इस पोत की कमान लेफ्टिनेंट कमांडर मुनीश सेठी को सौंपी गई है।

कोलकाता स्थित गार्डन रिच शिपबिल्डर्स (जीआरएसई) द्वारा निर्मित यह युद्धपोत इस वर्ग का चौथा है। ऐसे कुल आठ युद्धपोतों को बनाने का आर्डर जीआरएसई को 2011 में मिला था। बाकी चारों एलसीयू का निर्माण का काम तेजी पर है। नौसेना में इन पोतों को शामिल करने से भारत की समुद्री सुरक्षा क्षमता में भारी इजाफा होगा। ये पोत मुख्य तौर पर भारत के द्वीपीय भूभागों की रक्षा में काम आएंगे। ये पोत दूरस्थित द्वीपों और समुद्र तटीय इलाकों से लोगों को सुरक्षित निकालने और राहत व बचाव भूमिका में भी इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top