Forces

स्पेशल रिपोर्टः दुश्मन की नौसेना के लिये काल बन कर आएंगे चार रूसी फ्रिगेट

नई  दिल्ली। रूस से रक्षा साज सामान खरीदने पर अमेरिका द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों की परवाह नहीं करते हुए भारत अक्टूबर के शुरू में रूस से अत्याधुनिक और समुद्री इलाके में दुश्मन पर कहर ढाने की क्षमता रखने वाले चार फ्रिगेटों को हासिल करने का समझौता करेगा।





यहां रक्षा सूत्रों ने बताया कि यह समझौता रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के अक्टूबर के पहले सप्ताह में होने वाली शिखर बैठक के दौरान सम्पन्न किया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि इसी दौरान रूस से बहुचर्चित एस-400 एंटी मिसाइल प्रणाली खरीदने के लिये भी सौदे पर मुहर लगाई जाएगी।

रूस से जो चार नये फ्रिगेट खरीदे जाएंगे वे प्रोजेक्ट 11356 के तहत अडवांस्ड तलवार क्लास फ्रिगेट होंगे जो कई किस्मों के अत्यधिक संहारक औऱ लम्बी दूरी तक मार करने वाली क्रुज मिसाइलों से भी लैस होंगे। इनमें 290 किलोमटीर दूर तक मार करने वाली ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रुज मिसाइल भी शामिल होगी। यह फ्रिगेट समुद्र में विचरण करती दुश्मन की पनडुब्बियों,  हवाई लक्ष्यों और युद्धपोतों के लिये काल बन कर आएगा ।

गौरतलब है कि दो सप्ताह पहले ही भारत और अमेरिका के बीच टू प्ल्स टू वार्ता  हुई है जिसमें दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को और गहराई देने के लिये कोमकासा समझौता किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि चारों फ्रिगेंटों का सौदा कुल 2.2 अरब डालर का होगा। चूंकि अमेरिका ने रूस से रक्षा सौदौं में बाधा डालने का ऐलान किया है इसलिये रूस को डॉलर में भुगतान करना मुश्किल होगा। इससे बचने के लिये रूस को भारतीय रुपये में भुगतान करने के तरीकों पर विचार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक तलवार वर्ग के चार में से दो फ्रिगेट रूस में बनेंगे और दो फ्रिगेट भारतीय शिपयार्ड में बनेंगे। हालांकि भारत में बनने वाले दो फ्रिगेट रूस में बने दो फ्रिगेटों से महंगे होंगे क्योंकि भारत को इन्हें बनाने के लिये ढांचागत सुविधा पर अलग से निवेश करना होगा।

India, negotiate, buy, four frigates, Russia, featured, दुश्मन की नौसेना, रूसी फ्रिगेट, व्लादीमिर पुतिन, एस-400 एंटी मिसाइल प्रणाली, तलवार क्लास

Comments

Most Popular

To Top