Forces

Special Report: भारत और थाईलैंड अब साझा नौसैनिक अभ्यास भी करेंगे

भारत और थाईलैंड नौसैनिकों का साझा अभ्यास

नई दिल्ली।  भारत और थाईलैंड अब  साझा नौसैनिक अभ्यास भी शुरू करेंगे और समुद्री सुरक्षा में आपसी सहयोग को और गहरा करेंगे।





27 और 28 अगस्त को थाईलैंड के दौरे पर गईं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने थाईलैंड के रक्षा मंत्री जनरल प्रवित वांगसुवोन से दिवपक्षीय रक्षा और सामरिक  सहयोग  को और गहरा करने के इरादे से कई नये  फैसले लिये जिससे भारत और थाईलैंड के बीच आपसी सामरिक रिश्ता और गहरा होगा। थाईलैंड दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन आसियान का एक महत्वपूर्ण सदस्य है औऱ आसियान के साथ गहराते सामरिक सहयोग के मद्देनजर थाईलैंड के साथ भारत का रक्षा आदान प्रदान बढ़ना काफी अहम है।

थाईलैंड और भारत के बीच रक्षा मंत्री स्तर की बातचीत के बारे में यहां रक्षा मंत्रालय की प्रवक्ता ने बताया कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने थाई प्रधानमंत्री प्रयुत चान ओ चा से भी मुलाकात की।  प्रवक्ता ने बताया कि बैठक के दौरान दोनों रक्षा मत्रियों ने दोनों देशों के थलसैनिकों के बीच पहले से चल रहे साझा प्रतिविद्रोही और प्रतिआतंकवादी अभ्यास मैत्री का स्तर और दायरा बढ़ाने के मसले पर भी बात की। दोनों देशों की वायुसेनाओं के बीच पहले से चल रहे सियाम भारत वायुसैनिक अभ्यास का दायरा भी बढ़ाएंगे।

समुद्री सुरक्षा में आपसी सहयोग का दायरा बढ़ाने के इरादे से दोनों पक्ष समुद्री  माहौल स्थिति की जानकारी भी एक दूसरे को देने के बारे में सहमति दी। दोनों देशों के बीच रक्षा उद्योग और शोध एवं  विकास में भी परस्पर सहयोग करने के बारे में बात की। निर्मला सीतारमण ने थाई नेतृत्व के साथ क्षेत्रीय सुरक्षा हालात के बारे में भी बातचीत की।  दोनों पक्षों ने हिंद प्रशांत इलाके के बारे में चर्चा की और कहा कि दोनों के बीच इस मसले पर विचार मेल खाते हैं। इस बारे में दोनों देश आपसी सलाहमशविरा जारी रखेंगे।

आसियान का भावी चेयरमैन बनने और आसियान में भारत का समन्वय करने वाला देश बनने का रक्षा मंत्री ने स्वागत किया। इससे दोनों देशों के  बीच सहयोग और सलाहमशिवरा के नये दायरे खुलेंगे। इसी संदर्भ में थाई रक्षा मंत्री ने बिम्सटेक थलसैनिक अभ्यास करने औऱ सितम्बर, 2018 में सेना प्रमुखों की बैठक आयोजित करने  के लिये भी भारत की सराहना की। इस बैठक में भाग लेने के लिये थाईलैंड ने पुष्टि कर दी है।

Comments

Most Popular

To Top