Forces

समंदर में फंसे नौसेना अधिकारी टॉमी को किया गया रेस्क्यू

अभिलाष टॉमी

कोच्चि। दक्षिणी हिंद महासागर में भारी बारिश और तूफान में फंस चुके भारतीय नौसेना के 39 वर्षीय अधिकारी अभिलाष टॉमी को बचा लिया गया है। एक फ्रांसीसी जहाज उनके पास मदद के लिए पहुंचा है। नौसेना अधिकारी अभिलाष टॉमी दक्षिणी हिंद महासागर में गोल्डन ग्लोब रेस में भाग लेते समय बुरी तरह घायल हो गए थे।





खबर है कि अभी भी वहां पर ऊंची-ऊंची लहरें हैं, हवा तेज है और भारी बारिश हो रही है। ऐसे ही तूफान में उनकी नौका फंस गई थी और शुक्रवार को उनकी पीठ में चोट लग गई थी। रक्षा प्रवक्ता के मुताबिक आईएनएस सतपुरा और आईएनएस ज्योति तेज गति के साथ अभिलाष टॉमी के पास पहुंचने में जुटे हैं। नई दिल्ली स्थित नौसेना मुख्यालय और ऑस्ट्रेलिया के मेलबॉर्न स्थित ज्वाइंट रेस्क्यू कोऑर्डिनेशन सेंटर में हालात पर नजर रखी जा रही है।

प्रवक्ता ने यह भी बताया कि भारतीय नौसेना के पी8-आई विमान ने अभिलाष टॉमी की क्षतिग्रस्त नौका को देखा है और उसने रविवार तड़के मॉरीसस से उड़ान भरी थी। ऑस्ट्रेलियाई नौसेना का पोत भी टॉमी के पास पहुंच रहा है। पीठ में चोट लगने के बाद अभिलाष ने स्ट्रेचर के लिए अनुरोध किया था। वह चल पाने में सक्षम नहीं हैं।

मछली पकड़ने में इस्तेमाल होने वाला ऑस्ट्रेलियाई पोत ‘ओशिरिस’ भी उस स्थान पर तेजी से बढ़ रहा है जहां कीर्ति चक्र विजेता अभिलाष टॉमी फंसे हुए हैं। बताया जा रहा है कि पोत ‘ओशिरिस’ में एक चिकित्सा अधिकारी सवार है तथा उसमें एक विस्तर वाला अस्पताल भी है। एक रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी शिप भी वहां 4-5 दिन में पहुंचेगा।

नौसेना के अधिकारी अभिलाष संदेशों के माध्यम से फ्रांस में मौजूद रेस आयोजकों के साथ संपर्क में हैं। गौरतलब है कि इस चुनौती भरी रेस में 50 साल पुरानी नौका इस्तेमाल होती है और इस चुनौतीपूर्ण गोल्डन ग्लोब रेस के माध्यम से 48,280 किमी की विश्व यात्रा अकेले ही की जाती है। इसमें कोई भी संचार उपकरणों के अलावा किसी भी तरह की नई तकनीक के इस्तेमाल की अनुमति नहीं होती। अभिलाष टॉमी स्वदेशी नौका (SV Thuriya) के साथ भारत का प्रतिनिधत्व कर रहे हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top