Army

भारतीय सेना में महिलाओं के लिए सुनहरा मौका

भारत की पहली महिला रक्षामंत्री के रूप में निर्मला सीतारमण ने एक बड़ी जिम्मेदारी संभाली है। इसके साथ ही उन्होंने सेना व पुलिस में महिलाओं की भर्ती पर भी जोर दिया। आइये जानते हैं कि आखिर महिलाएं भारतीय सेना के किस अंग में अपना करियर आगे बढ़ा सकती हैं।





सेना में तकरीबन तीन हजार महिलाएं 

भारतीय सेना में यूं तो महिलाओं को ब्रिटिश काल से ही भर्ती करना शुरु कर दिया था लेकिन तब वे सिर्फ चिकित्सा और प्रशासनिक विभागों तक ही सीमित थीं। अब ऐसा नहीं है। आज महिलाएं कॉम्बेट रोल में भी अपना योगदान देने से पीछे नहीं हटती हैं। वर्ष 2008 में पहली बार महिला अधिकारियों को स्थाई कमीशन दिया गया। आज सेना के तीनों अंगों में तकरीबन तीन हजार से भी ज्यादा महिलाएं हैं। वायुसेना में महिला अधिकारियों की संख्या 1350 है तो थलसेना में 1300 और नौसेना में 450 महिला अधिकारी हैं। यानी ऐसे कई विभाग हैं जहां महिलाओं के लिए आकर्षक अवसर हैं।

थल सेना में प्रवेश

थलसेना में भर्ती के लिए ‘संघ लोक सेवा आयोग’ यानी UPSC में दो बार कंबाइंड डिफेंस सर्विसेज एग्जाम(CDSE) होता है। इससे इंडियन मिलट्री एकेडमी(IMA), ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी(OTA), इंडियन नेवल एकेडमी(INA), इंडियन एयर फोर्स एकेडमी(IAFA) में भर्ती होती है।
एसएससीडब्ल्यू के जरिए महिलाएं ऑफिसर्स लेवल में एंट्री पा सकती हैं। ये तीन प्रकार से होती है ग्रेजुएट यूपीएससी, ग्रेजुएट नॉन यूपीएससी, तथा ग्रेजुएट टेक एंट्रीज।

नॉन-टेक्निकल (ग्रेजुएट यूपीएससी)

इसके लिए मान्यता प्राप्त विश्व विद्यालय से स्नातक होना आवश्यक है। विवाहित होने के साथ  उमीदवार की उम्र 19 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिये। इसके लिए संघ लोक सेवा आयुग (UPSC) की वेबसाईट के जरिए आवेदन किया जा सकता है।

NCC स्पेशल एंट्री (ग्रेजुएट नॉन यूपीएससी)

50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक तथा NCC में सीनियर डिविजन, आर्मी में दो साल की सर्विस तथा सी सर्टिफिकेट में बी ग्रेड प्राप्त करना आवश्यक है। इसके लिए आयुसीमा 19 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आप ऑफलाइन भी आवेदन कर सकते हैं।

जेएजी एंट्री (ग्रेजुएट नॉन यूपीएससी)

इसके माध्यम से केवल लॉ ग्रेजुएट महिलाओं को सेना में प्रवेश मिलता है। इसके लिए उम्र सीमा 21से 27 वर्ष है। उमीदवार डीजी (आरटीजी) की वेबसाईट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

टैक्निकल एंट्री (ग्रेजुएट टेक एंट्रीज)

टैक्निकल एंट्री में बीई/बीटेक की डिग्री प्राप्त करने वाले उमीदवारों को प्रवेश मिलता है। उम्र सीमा है 20 से 27 वर्ष।इसके लिए डीजी (आरटीजी) की वेबसाईट पर आवेदन करना होता है।

सेना चिकित्सा कोर

महिलाएं एमबीबीएस की डिग्री लेने के बाद डॉक्टर के रूप में भी सेना में शामिल हो सकती हैं। सशस्त्र सेना बल या SSB के माध्यम से ‘सेना चिकित्सा कोर’ में प्रवेश पा सकती हैं। इसके अलावा ‘मिलिट्री नर्सिंग कोर’ में भी सीधी भर्ती होती है।

भारतीय वायुसेना में प्रवेश

 

भारतीय वायुसेना में एएफकैट एवं फ्लाइंग ब्रांच के अंतर्गत प्रवेश मिलता है। इसके लिए महिलाओं को एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट (एएफकैट) की लिखित परीक्षा पास करनी होती है। शोर्टलिस्ट किए गए उमीदवार इंटरव्यू के लिए बुलाए जाते हैं। इसके लिए आवेदन करने के लिए 12वीं की परीक्षा फिजिक्स व मैथ्स के साथ उत्तीर्ण होनी चाहिए। 60 प्रतिशत अंकों के साथ किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक हों। फाइनल ईयर के विद्यार्थी भी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं

NCC से वायुसेना में एंट्री

नेशनल कैडेट कोर (NCC)

अब एनसीसी की वायुसेना विंग की महिला कैडेटों के रूप में भी भर्ती होने लगी है। इसके लिए उन्हें एनसीसी का सी-लेवल सर्टिफिकेट हासिल करना होता है। उन्हें वायुसेना की कोई लिखित परीक्षा नहीं देनी होगी। वे सीधे साक्षात्कार के लिए आवेदन कर सकेंगी। अभी तक सी-लेवल की सुविधा पुरुष कैंडीडेट को ही दी जाती थी।

नौसेना में प्रवेश

नौसेना में अलग-अलग विभागों में महिलाओं को प्रवेश दिया जाता है। इसमें आवेदन करने के लिए 21से 25 वर्ष की उम्र की बीई/बीटेक ग्रेजुएट उमीदवार को नौसेना की ऑफिशियल वेबसाईट पर आवेदन करना होता है।

अब सेना पुलिस में भी जा सकेंगीं महिलाएं

जहां जहां सेना छावनी यानी केन्टोमेंट होता है वहां आंतरिक व्यवस्था संभालने के लिए सेना पुलिस होती है। भारतीय सेना अब मिलिट्री पुलिस कोर्प में भी महिलाओं भर्ती करने की योजना बना रही है। इसके अंतर्गत प्रतिवर्ष 52 महिलाओं को शामिल किया जाएगा। यानि इसमें भी आपके लिए कई अवसर मिल सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top