Forces

दक्षिण भारत में बाढ़ जैसे हालात, रेड अलर्ट के बीच बचाव कार्य में जुटीं सेनाएं

केरल में बाढ़ के हालात
फोटो सौजन्य- गूगल

कोच्चि। दक्षिण भारत के कई हिस्सों में लगातार हो रही भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। राहत और बचाव कार्य के लिए सेना को लगाया गया है। मौसम विभाग द्वारा जारी रेड अलर्ट के बीच थलसेना, वायुसेना और नौसेना समेत एनडीआरएफ की टीमें लोगों को बचाने और सुरक्षित स्थानों पर ले जाने में जुटीं है।





खबर के मुताबिक उत्‍तरी कर्नाटक के बेलगाम, बागलकोट और रायचूर तथा दक्षिण महाराष्‍ट्र के कोल्‍हापुर, सांगली और रायगढ़ जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। सामान्‍य जीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त हो गया है। स्‍थानीय प्रशासन के अनुरोध पर सैन्‍य बलों ने तत्‍परता से राहत-बचाव कार्य शुरू कर दिया है। आईएल- 76, एएन- 32, एवरो जैसे विमानों से भारतीय वायुसेना, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF), नौसेना, थलसेना की टीमों को हवाई मार्ग से प्रभावित क्षेत्रों तक पहुंचा रही है।

नावों और अन्‍य बाढ़ बचाव उपकरणों के साथ सेना के इंजीनियर टास्‍क फोर्स को प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया गया है। नावों और विशेषज्ञ तैराकों के साथ नौसेना बचाव टीमों को भी राहत कार्यों के लिए तटरक्षक बलों के साथ तैनात किया गया है।

कर्नाटक में 1,000 हजार से अधिक सैन्‍यकर्मी बाढ़ राहत उपकरणों तथा 2 हेलिकॉप्‍टरों के साथ तैनात किए गए है। बचाव कार्यों के लिए 400 से अधिक सैन्‍यकर्मी महाराष्‍ट्र में तैनात है। महाराष्‍ट्र में सैन्‍यकर्मी बचाव कार्यों के लिए 4 हेलिकॉप्‍टरों का भी इस्तेमाल कर रहे हैं।

इसके अलावा एनडीआरएफ तथा इंजीनियर टास्‍क फोर्स को प्रभावित क्षेत्रों तक पहुंचाने के लिए लगभग 10 विमानों का संचालन किया जा रहा है। खराब मौसम की वजह से राहत-बचाव कार्यों विशेषकर हेलिकॉप्‍टर की उड़ान में बाधा हो रही है। संबंधित राज्‍य सरकारों से समन्‍वय के लिए दक्षिणी कमान मुख्‍यालय, पुणे को नोडल एजेंसी बनाया गया है।

एकीकृत रक्षा स्‍टाफ मुख्‍यालय ने दिल्‍ली में एक नियंत्रण कक्ष स्‍थापित किया है जो तीनों सेनाओं के बचाव दलों की आवश्‍यकताओं की जानकारी प्राप्‍त करेगा और संसाधनों का आवंटन करेगा। नियंत्रण कक्ष 24 x 7 केंद्र सरकार के संपर्क में है।

Comments

Most Popular

To Top