Forces

फ्लोटिंग डॉक FDN-2 भारतीय नौसेना में शामिल

फ्लोटिंग डॉक FDN-2
फ्लोटिंग डॉक FDN-2 (फाइल फोटो)

पोर्ट ब्लेयर। स्वदेशी डिजाइन और निर्मित फ्लोटिंग डॉक FDN-2 को शुक्रवार को पोर्ट ब्लयेर में भारतीय नौसेना में शामिल कर लिया गया। भारतीय नौसेना की परंपराओं के अनुसार आयोजित एक समारोह में अंडमान एवं निकोबार के उपराज्यपाल एडमिरल (सेवानिवृत्त) डीके जोशी ने इसे भारतीय नौसेना में शामिल किया। भारतीय सेना, नौसेना, वायुसेना और कॉस्ट गार्ड के वरिष्ठ अधिकारी भी इस ऐतिहासिक अवसर पर उपस्थित थे।





फ्लोटिंग डॉक समुद्री पानी पर बना एक प्लेटफार्म है जहां जहाजों की मरम्मत और रखरखाव होता है। एफडीएन-2 अत्याधुनिक स्वचालित प्रणाली से लैस है और युद्धपोतों की त्वरित तथा क्वालिटी रिपेयर के लिए इस पर तमाम आधुनिक सुविधाएं हैं। भारतीय नौसेना के फ्रिगेट और विध्वसंक पोतों समेत यह डॉक 8000 टन तक के जहाजों को लिफ्ट करने की क्षमता रखता है। FDN-2 के शामिल होने से अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में स्थित नौसैनिक युद्धपोतों के लिए मरम्मत और रिफिट सुविधा में काफी वृद्धि हो जायेगी।

Comments

Most Popular

To Top