DEFENCE

आखिरकार 33 घुसपैठियों को वापस लेने पर बांग्लादेश हुआ तैयार

बीएसएफ
गश्त लगाते बीएसएफ के जवान (सौजन्य- गूगल)

नई दिल्ली। बांग्लादेश सरकार अपने 33 नागरिकों को वापस लेने को तैयार हो गया है जिन्हें असम में विदेशी न्यायाधिकरण ने घुसपैठिया करार दिया था। एक सीनियर पुलिस ऑफिसर ने बुधवार को यह जानकारी दी। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (स्पेशल ब्रांच) पल्लब भट्टाचार्य ने कहा कि बांग्लादेश के सहायक उच्चायुक्त हाल ही में हिरासत में बंद बांग्लादेशियों से मिलने गए थे और जहां उन्होंने सभी 33 लोगों को अपने देश का नागरिक पाया।





भट्टाचार्य के मुताबिक विभिन्न विदेशी न्यायाधिकरणों द्वारा बांग्लादेश के अवैध प्रवासी करार दिए जाने के बाद इन 33 लोगों को हिरासत में रखा गया था। उन्होंने अपने नागरिकों को बांग्लादेश द्वारा वापस लेने के फैसले की प्रशंसा की और कहा कि यह सद्भावना है क्योंकि दोनों पड़ोसी देशों के बीच कोई प्रत्यर्पण संधि के तहत नहीं है। जब उनसे पूछा गया कि इन सभी 33 विदेशियों को कब स्वदेश भेजा जाएगा तब उन्होंने कहा कि इसमें कुछ समय लग सकता है क्योंकि उनकी वापसी के तौर तरीके विदेश मंत्रालय बांग्लादेश के अपने समकक्ष के साथ मिलकर तय करेगा। हिरासत केंद्र में रखे गए इन लोगों के पते बांग्लादेश सरकार को भेजे गए थे और पुष्टि होने के बाद यह साफ हो सका कि वे बांग्लादेश नागरिक हैं।

उन्होंने कहा कि वैसे न्यायाधिकरण द्वारा विदेशी घोषित करने का जरूरी नहीं यह मतलब हो कि वह व्यक्ति बांग्लादेश का है क्योंकि पता उस देश द्वारा सत्यापित करना होता है। भट्टाचार्य ने कहा कि वर्ष 2013 में केद्र ने असम सरकार को अवैध विदेशी को धकेलने नहीं बल्कि बांग्लादेश को प्रत्यर्पित करने का निर्देश दिया था। आधिकरिक सूत्रों ने बताया कि बांग्लादेश ने पिछले ही महीने हिरासत कैंप में अपने 152 नागरिकों की शिनाख्त की थी और विदेश मंत्रालय को उन्हें जत्थे में वापस भेजने का प्रस्ताव दिया था।

Comments

Most Popular

To Top