DEFENCE

अमेरिका ने भारत के साथ रक्षा सौदों के लिए बिल को दी मंजूरी

अमेरिका-भारत में रक्षा सौदे को मंजूरी

वॉशिंगटन। अमेरिका प्रतिनिधि सभा की ओर से भारत और अमेरिका के बीच रक्षा सहयोग को बढ़ाने वाले रक्षा नीति बिल को मंजूरी मिल गई है। 621.5 बिलियन डॉलर वाले इस बिल में भारत के साथ कई बड़े और आधुनिक रक्षा सहयोग का प्रस्ताव दिया गया है।





रक्षा मंत्री की मंजूरी जरूरी भारत-अमेरिकी सीनेटर एमी बेरा की ओर से इस बिल को पेश किया गया और इस सदन में ध्वनिमत से पास किया गया। यह बिल अमेरिका के नेशनल डिफेंस अथॉराइजेशन एक्ट (एनडीएए) 2018 का ही हिस्सा जो कि इस वर्ष एक अक्टूबर से शुरू हो रहा है। एनडीएए- 2018 को सदन में 344-81 वोट्स से पास किया गया। भारत से जुड़े बदलाव को सदन में पास कर गया है लेकिन अभी इसे अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मटीज की मंजूरी चाहिए होगी।

‘भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है’

विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के साथ सलह-मशविरा करके अमेरिका-भारत के बीच रक्षा सहयोग कैसे बढ़ाया जाए इसकी रणनीति तैयार की जाएगी। एमी बेरा ने इस पर कहा है, ‘अमेरीका दुनिया का सबसे पुराना लोकतंत्र है और भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। ऐसे में यह बहुत ही जरूरी है कि दोनों देशों के बीच आधुनिक रक्षा सहयोग के लिए एक रणनीति तैयार की जाए जो लगभग 180 दिन में तैयार हो जाएगी।’

उन्होंने कहा कि वह इस बात के लिए काफी अहसानमंद हैं कि इस बिल को सदन की ओर से पास कर दिया गया और अब रक्षा विभाग से उनकी उम्मीदें टिकी है। उनका मानना है कि ऐसी रणनीति तैयार की जाएगी जिसमें कई समान सुरक्षा चुनौतियां, साथियों और साक्षेदारों के रोल और विज्ञान एवं तकनीक से जुड़े क्षेत्रों के मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। अमेरिका के रक्षा और विदेश मंत्री के पास NDAA के पास होने के बाद 180 दिनों का समय होगा। इतनी समयावधि में उन्हें दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को बढ़ाने के लिए एक रणनीति तैयार होगी।

NDAA- 2017 में मिला भारत को रक्षा साक्षीदार का दर्जा

व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साइन होने के बाद यह कानून बन जाएगा। लेकिन इससे पहले सीनेट में इसका पास होना जरूरी होता है। NDAA- 2017 में भारत को एक बड़े रक्षा साक्षीदार का दर्जा मिला था। इसके बाद भारत रक्षा और तकनीक के मद्देनजर अमेरिका के और करीब आ गया था। इस बीच एक वरिष्ठ रक्षा अधिकारी की ओर से कहा गया है कि भारत और अमेरिका के रिश्ते सकारात्मक रास्ते पर हैं।

Comments

Most Popular

To Top