DEFENCE

स्टूडेंट वीज़ा डे- भारत और अमेरिका के बीच शैक्षिक आदान-प्रदान समारोह का आयोजन

भारतीय छात्र

नई दिल्ली। आज भारत में अमेरिकी मिशन ने चौथा वार्षिक स्टूडेंट वीज़ा डे मनाया। इस कार्यक्रम में भारत और अमेरिका के बीच उच्च शिक्षा संबंधों पर एक समारोह आयोजित किया जाता है। यह दिन योग्य भारतीय छात्रों को अमेरिका जाने से पूर्व जानकारी प्रदान करने हेतु एजूकेशन यूएसए के साथ जोड़कर अमेरिका में उनके अध्ययन की तैयारी में सहायता करने के प्रति भी समर्पित है।





अमेरिकी दूतावास नई दिल्ली  और चेन्नई, हैदराबाद, कोलाकाता और मुंबई में कांसुलेट्स जनरल में अमेरिका में अध्ययन हेतु वीज़ा के लिए आवेदन करने वाले 4,000 से अधिक भारतीय छात्रों का स्वागत किया गया। नई दिल्ली में उपराजदूत (डीसीएम) मैरीके कार्लसन और पूरे भारत में कांसुल्स जनरल ने इस दिवस पर आवेदकों को अमेरिका में अध्ययन करने वाले उन भारतीय छात्रों के बढ़ते रैंक में शामिल होने पर बधाई दी जिन्होंने अमेरिका में पढ़ने के लिए दुनिया के प्रमुख अकादमिक संस्थानों का चयन किया है।

वर्ष 2017 में 1,86,000 से अधिक भारतीय छात्र अमेरिका के उच्च शिक्षा संस्थानों में नामांकित थे जो कि एक दशक पहले के मुकाबले दोगुनी संख्या थी और 2016 के मुकाबले 12 प्रतिशत अधिक थी। भारत दूसरा प्रमुख स्थान है, जहां से छात्र अमेरिका पढ़ने आ रहे हैं। अमेरिका में कुल अंतर्राष्ट्रीय छात्रों में 17 प्रतिशत से अधिक भारतीय हैं।

उपराजदूत कार्लसन ने कहा, ‘‘अंतर्राष्ट्रीय शैक्षिक आदान-प्रदान अमेरिका-भारत संबंधों में केंद्रीय भूमिका अदा करता है। यह हमारे दोनों देशों के बीच आदान-प्रदान के आधार को मजबूत बनाने में सहायता करता है, जिस पर हमारी रणनीतिक भागीदारी निर्मित हुई है।’’ अमेरिकी दूतावास और कांसुलेट्स जनरल ने सूचनात्मक और समारोहपूर्ण वातावरण में स्टूडेंट वीज़ा डे आवेदकों का स्वागत किया। कांसुलर स्टाफ सदस्यों ने अपने संस्थानों (अलमा मैटर्स) के शर्ट और हैट धारण किए थे। कुछ कांसुलेट्स ने अलुम्नी प्रवक्ता अतिथियों को आमंत्रित किया, जबकि कुछ के पास वीडियो या ‘सेल्फी’ स्टेशन बनाए थे। भागीदार प्रतिनिधियों में एजूकेशन यूएसए, अमेरिकन लाइब्रेरी, शामिल थे और विद्यार्थी के रूप में अमेरिका में अध्ययन करने की जिंदगी के बारे में छात्रों के प्रश्नों का उत्तर देने और अपने विचार व्यक्त करने के लिए हाल ही में अमेरिका से स्नातक छात्र उपस्थित थे।

Comments

Most Popular

To Top