DEFENCE

कश्मीर में अब पत्थरबाजों से निपटेगा ‘बदबूदार बम’

'स्टिंक बम' (‘दुर्गंधयुक्त बम’)

कन्नौज। यूपी के कन्नौज में बना ‘स्टिंक बम’ (दुर्गंधयुक्त बम) कश्मीर घाटी में पत्थरबाजों को काबू करेगा। इसका इस्तेमाल पैलेट गन की जगह किया जा सकता है। इत्र बनाने के लिए मशहूर कन्नौज में कैप्सूल के आकार का तेज बदबू वाला बम तैयार किया गया है। कैप्सूल को आंसू गैस छोड़ने वाली बंदूक के जरिये दागा जा सकेगा।





इस कैप्सूल को दागे जाने के बाद इसके फटने से धुआं उठेगा, जो बहुत ज्यादा दुर्गंध वाला धुंआ होगा और इस दुर्गंध को बर्दाश्त करना लोगों के लिए मुश्किल हो जाएगा। कन्नौज स्थित फ्रेग्नेंस एंड फ्लेवर डेवलपमेंट सेंटर (FFDC) के वैज्ञानिकों ने ‘दुर्गंधयुक्त बम’ बनाया है।

जल्द होगा ‘स्टिंक बम’ का परीक्षण: 

एफएफडीसी के मुख्य निदेशक शक्ति विनय शुक्ला का कहना है कि दुर्गंध फैलाने वाले रसायन को एक छोटे कैप्सूल में रखा जाएगा। ग्वालियर की रक्षा प्रयोगशाला में जल्द ही इसका परीक्षण किया जाएगा। परीक्षण सफल होने के बाद सेना इसका उपयोग कर सकती है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और रक्षा मंत्रालय की आवश्यक मंजूरी और स्वीकृति के बाद इसे सेना को सौंप दिया जाएगा।

घाटी में पहुंचे 1 लाख प्लास्टिक बुलेट्स, मिर्चवाले पावा शैल्स

स्वास्थ्य को कोई नुकसान नहीं

इस कैप्सूल की गंध ही असहनीय है, बदबू और धुंए से भीड़ को तितर-बितर किया जा सकेगा, लेकिन लोगों के स्वास्थ्य पर इसका कोई असर नहीं होगा। गौरतलब है कि गत वर्ष केंद्र सरकार ने भीड़ से निपटने के लिए पावा शैल्स (मिर्च पाउडर भरे ग्रेनेड) के इस्तेमाल को भी मंजूरी दी थी।

Comments

Most Popular

To Top