DEFENCE

Special Report: इंतजार उस दिन का जब PoK पर हमारा होगा कब्जा- जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर को विशेष  दर्जा देने वाले अनुच्छेद- 370 को  भारत का अंदरुनी मामला बताते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि वह उस दिन की प्रतीक्षा कर रहे हैं जब पाकिस्तान के कब्जे वाले  जम्मू-कश्मीर के हिस्से पर भारत का आधिपत्य होगा।





यहां नरेन्द्र मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर अपने मंत्रालय की उपलब्धियों पर आयोजित विशेष प्रेस सम्मेलन में विदेश मंत्री ने सवालों के जवाब में कहा कि  अंतररराष्ट्रीय समुदाय समझता है कि  भारत ने अनुच्छेद-370 को निरस्त करने का कदम क्यों उठाया। उन्होंने कहा कि यह एक अस्थायी प्रावधान था जिसकी वजह से भारतीय संविधान का जम्मू कश्मीर के लोग पूरा लाभ नहीं उठा पा रहे थे।  वास्तव में यह प्रावधान निष्क्रिय हो चुका था। इससे यह राज्य अलगाववाद का शिकार हो रहा था। इसलिये मौजूदा सरकार ने सोचा कि इसे क्या करना चाहिये। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को पता है कि पाकिस्तान किस तरह सीमा पार आतंकवाद को भड़का रहा है।

गौरतलब है कि विदेश मंत्री के इस बयान के पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा है कि पाकिस्तान से यदि कोई बात होगी तो पाक अधिकृत कश्मीर को वापस लेने औऱ सीमा पार आतंकवाद रोकने के मसले पर होगी। विदेश मंत्री जयशंकर ने भी इसी भावना को दुहरा कर पाकिस्तान को लेकर भारत के कड़े रुख का  इजहार किया है।

विदेश मंत्री ने कहा कि दुनिया के किसी भी देश का नाम लीजिये जो सीमा पार आतंकवाद को भड़काता हो औऱ इसे अपनी विदेश नीति का हिस्सा बनाता हो। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ मसला अनुच्छेद-370 नहीं बल्कि सीमा पार आतंकवाद ही है।

भारत  में 5-जी नेटवर्क सेवा प्रदान करने के लिये चीन की कम्पनी ह्वावेई को ठेका देने की सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्री ने कहा कि  इस पर दूरसंचार विभाग को फैसला करना है। इसके परीक्षण अभी होने बाकी हैं।

Comments

Most Popular

To Top