DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: एफ-16 को लेकर अमेरिकी पेटांगन ने शक किए दूर

पाकिस्तान के F 16 विमान का मलबा
फाइल फोटो

नई दिल्ली।  पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को भारतीय पायलट अभिनंदन वर्द्धमान द्वारा अपने मिग-21 विमान से मार गिराए जाने को लेकर अमेरिका की एक प्रतिष्ठित पत्रिका फारेन पालिसी द्वारा फैलाए गए भ्रम को अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन  ने अपने एक बयान से दूर कर दिया है। पेंटागन ने फारेन पालिसी पत्रिका की इस रिपोर्ट का खंडन किया है औऱ कहा है कि उसे नहीं पता कि एफ-16 की जांच के लिये कोई जांच दल पाकिस्तान भेजा गया।





 गौरतलब है कि पुलवामा पर आतंकवादी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने जब  26 फरवरी को बालाकोट पर सर्जिकल स्ट्राइक किया तो अगले दिन पाकिस्तानी वायुसेना के एफ- 16 लडाकू विमानों के बेडे ने जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पार कर भारतीय सैन्य ठिकाने पर हमला किया था।  इन विमानों का मुकाबला करने के लिये भारतीय वायुसेना ने अपने मिग-21 हवाई सुरक्षा लड़ाकू विमानों को तुरंत तैनात किया और इसे उड़ा रहे   विंग कमांडर अभिनंदन ने एफ-16 का पीछा किया और एक को मार गिराया।

पाकिस्तानी सेना इस सच्चाई को स्वीकार नहीं कर रही और अपनी झेंप मिटाने के लिये झूठे बयान देती रही है। इसके बाद जब अमेरिकी पत्रिका फारेन पालिसी ने यह रिपोर्ट पांच अप्रैल को प्रकाशित की कि पाकिस्तान का कोई एफ-16 विमान भारत ने नहीं गिराया और पाकिस्तान के वायुसैनिक बेड़े में सभी एफ-16 विमानों की गिनती अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने कर ली है तो पाकिस्तान के दावे को काफी बल मिला।

इस रिपोर्ट के तुरंत बाद भारतीय वायुसेना ने भी अपने बयान में यह साफ किया था कि एफ-16 को मार गिराए जाने के इलेक्ट्रानिक सबूत भारतीय वायुसेना के पास हैं। लेकिन अमेरिकी पत्रिका की रिपोर्ट अधिक विश्वसनीय लग रही थी क्योंकि उसने दावा किया था कि  उसकी रिपोर्टर ने उन अमेरिकी रक्षा अधिकारियों से बात के आधार पर रिपोर्ट लिखी है जिन्होंने खुद पाकिस्तानी वायुसेना के एफ-16 लड़ाकू विमानों की गिनती की थी और पाया था कि एक भी एफ-16 विमान लापता नहीं है।

लेकिन इस रिपोर्ट के तुरंत बाद अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने अपने एक आधिकारिक बयान में कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि पाकिस्तानी एफ-16 विमानों की गिनती के लिये कोई जांच की गई कि पाकिस्तानी वायुसेना ने वाकई में भारतीय वायुसेना के साथ डागफाइट के दौरान अपना एफ-16 खोया। वास्तव में अमेरिका ने पाकिस्तान को एफ-16 विमान को इसी शर्त पर बेचा था कि उसका इस्तेमाल केवल आतंकवादियों के खिलाफ करेगा और भारत के खिलाफ इसे लड़ने के लिये नहीं भेज सकता।

पाकिस्तान ने बाद में जार्डन से भी कुछ पुराने एफ-16 विमान खरीदे लेकिन उन पर भी अमेरिका के साथ किये गए एंड-यूजर एग्रीमेंट लागू होता है जिसमें यह शर्त होती है कि अमेरिका द्वारा दिए गए सैनिक साज सामान का इस्तेमाल किसके खिलाफ कर सकता है।

यहां सैन्य सूत्रों का कहना है कि पेंटागन के ताजा बयान से एफ-16 को गिराए जाने की शंका के बादल छंट जाएंगे और पाकिस्तान का यह झूठ उजागर हो जाएगा। सूत्रों ने कहा कि वास्तव में 27 फरवरी को डागफाइट के बाद पाकिस्तानी सैन्य प्रवक्ता ने खुद दावा किया था कि दो भारतीय पायलट पकड़े गए हैं। इनमें से एक घायल पक़डा गया जिसका इलाज चल रहा है। यह दूसरा पायलट कभी भी नहीं देखा गया। रिपोर्ट है कि अस्पताल में पाकिस्तानी एफ-16 के पायलट ने दम तोड़ दिया था।

Comments

Most Popular

To Top