DEFENCE

Special Report: रक्षा शोध और उद्योग के बीच तालमेल जरूरी

DRDO

नई दिल्ली। सैनिक साज सामान के मामलों में आत्मनिर्भरता के लिये रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने  रक्षा शोध एवं विकास संगठन  के बीच अधिक तालमेल पर जोर दिया है।  इस बारे में  हैदराबाद में   आयोजित  सम्मेलन को अपने वीडियो सदेश में रक्षा मंत्री ने  स्वदेशी रक्षा प्रणालियों औऱ  तकनीक के विकास के लिये  बनाए जा रहे माहौल का रक्षा मंत्री ने स्वागत किया।





उन्होंने कहा कि रक्षा साज सामान औऱ उच्च तकनीक की  विभिन्न प्रणालियों  के स्वदेशी विकास के  लिये रक्षा शोध एवं विकास संगठन (डीआरडीओ)  महत्वपूर्ण प्रयास कर रहा है। इस सम्मेलन में डीआरडीओ के चैयेरमैन और  रक्षा शोध एवं विकास विभाग के सचिव  डॉ. जी सतीश रेड्डी ने डीआरडीओ ने हाल में लागू की जा रही नई नीतियों और कार्यक्रमों की चर्चा की।

रक्षा मंत्री ने कहा कि  रक्षा मंत्रालय की नई रक्षा उत्पादन नीति के तहत साल 2025 तक  अंतरिक्ष वैमानिकी औऱ  रक्षा साज सामान के स्वदेशी उत्पादन का 25 अरब  डॉलर का लक्ष्य रखा है।  इसमें 20 से 30 लाख लोगों के लिये नौकरी के अवसर पैदा करने के लिये  दस अरब डालर के निवेश का लक्ष्य है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि  डीआरडीओ ने 1,800 से अधिक उद्योगों के साथ सहयोग किया है।  उन्होंने कहा कि डीआरडीओ औऱ रक्षा उद्योग आपसी तालमेल गहरा करने के लिये नये उपायों पर विचार करें।

Comments

Most Popular

To Top