DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: पाक-चीन का साझा वायुसैनिक अभ्यास भारत के लिए संदेश

चीनी विमान
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पाकिस्तान और चीन की वायुसेनाओं ने  पिछले सप्ताह  पखवाड भर चला साझा युद्धाभ्यास  सम्पन्न किया। शाहीन-8 नाम के इस साझा वायुसैनिक अभ्यास में असली युद्ध का माहौल बनाया गया और दोनों देशों के लडाकू विमानों ने एक दूसरे पर वार किये।





यहां सैन्य पर्यवेक्षकों के मुताबिक चीन और पाकिस्तान की वायुसेना के बीच वृहद स्तर का  यह साझा अभ्यास भारत के लिये एक संदेश है। इस अभ्यास के जरिये चीन औऱ पाकिस्तान भारत को आगाह करना चाहते हैं कि भारत के खिलाफ युद्ध में चीन पाकिस्तानी वायुसेना को नवीनतम हवाई रणनीति से लैस कर रहा है।

 शाहीन-8 युद्धाभ्यास की जानकारी   चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने चीनी पीपल्स लिबरेशन आर्मी के हवाले से दी।  इस युद्धाभ्यास के  चीन के उत्तर पश्चिम इलाके में होने की जानकारी चीनी पीएलए ने दी लेकिन यह अभ्यास किस खास इलाके में हुआ इसका खुलासा नहीं किया गया।  पी एल ए के मुताबिक  इस अभ्यास में कई तरह के  लड़ाकू विमान , सतह से आसमान में मार करने वाली मिसाइले , रेडार केन्द्रों  आदि को इसमें शामिल किया गया।

 इस अभ्यास के लिये  दोनों देशों ने रेड औऱ ब्लू टीम का गठन किया। रेड टीम मे केवल चीनी वायुसैनिक थे जब कि ब्लू टीम में चीन और पाकिस्तान के वायुसैनिक सैनिक शामिल थे।  इस नकली हवाई लड़ाई में दोनों देशों के  50 से अधिक लडाकू विमान शामिल किये गए।  इसमें चीन के जे-10, जे-11, जे-16,  सुखोई-30  लडाकू विमान,  जेएच-7 लड़ाकू बमवर्षक  और केजे – 500 पूर्व चेतावनी देने वाले टोही विमान शामिल किये गए। चीनी पीएलए ने यह नहीं बताया कि अभ्यास में पाकिस्तान ने किन लड़ाकू विमानों को उतारा।

 शाहीन वायुसैनिक अभ्यास की शुरुआत दोनों ओर से एक एक लडाकू विमान के बीच आसमानी लडाई से शुरु की गई थी लेकिन इस बार  अधिक लड़ाकू विमानों और जमीनी सैन्य प्रतिष्ठानों को लेकर किया गया।   इसमे इलेक्ट्रानिक प्रतिरोधक प्रणालियां  आदि को शामिल किया गया।

Comments

Most Popular

To Top