DEFENCE

Special Report: सुखोई-30 और मिग-29 के एक औऱ स्क्वाड्रन लेंगे रूस से

सुखोई- 30 और मिग- 29

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना के लिये  सुखोई-30-एमकेआई  और मिग-29 लडाकू विमानों के  एक अतिरिक्त स्क्वाड्रन हासिल करने पर भारतीय रक्षा मंत्रालय के अधिकारी रूसी अधिकारियों के साथ बात कर रहे हैं। सैनिक और तकनीकी सहयोग के लिये  रूसी फेडरल सर्विस के उप निदेशक ब्लादीमिर द्रोजनोव ने मास्को में पत्रकारों को यह जानकारी दी।





रूसी समाचार एजेंसी तास ने द्रोजनोव के हवाले से रिपोर्ट दी है कि इस सौदे के लिये भारत के आग्रह पर रूस काम कर रहा है। द्रोजनोव ने कहा कि  सुखोई-30 एमकेआई के सभी तकनीकी सेट सौंप कर रूस ने अपनी प्रतिबद्धताएं पूरी कर दी हैं। उन्होंने कहा कि इसके अलावा उन्हें भारत से एक स्क्वाड्रन अतिरिक्त की सप्लाई का आग्रह मिला है।

रूस की मदद से भारतीय वायुसेना में अब तक 272 सुखोई-30 विमानों के 13 स्क्वाड्रन शामिल हो चुके हैं। भारत के नये आर्डर को पूरा होने के बाद वायुसेना में सुखोई-30 के कुल 14 स्क्वाड्रन हो जाएंगे।

द्रोजनोव ने यह भी बताया कि रूस सुखोई-30 के अलावा अन्य सैन्य प्रणालियों की सप्लाई पर भी काम कर रहा है। भारत ने रूस से आग्रह किया है कि  भारतीय वायुसेना के लिये 20 मिग-29 ल़ड़ाकू विमानों की सप्लाई करे। रूसी अधिकारी इस पर भी काम कर रहे हैं।  ये मिग-29 विमान  और आधुनिक बनाए जाएंगे।  इसके अलावा भारतीय थलसेना के 450 से भी अधिक टी- 90 टैंकों को आधुनिक बनाने का आग्रह भारत की ओऱ से किया गया है।

रक्षा सूत्रों के मुताबिक भारतीय वायुसेना के घटते स्क्वाड्रनों के मद्देनजर सुखोई-30 और मिग-29 के अतिरिक्त स्क्वाड्रन जोड़ने का फैसला भारतीय रक्षा मंत्रालय ने किया है। फिलहाल भारतीय वायुसेना में 250 सुखोई -30 विमान हैं जिनमें से 200 भारत में लाइसेंस पर बनाए गए हैं।

Comments

Most Popular

To Top