DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: अब पूरे साल मकान रख सकेंगे युद्ध में हताहत सैनिकों के परिवार

करगिल युद्ध के दौरान बिहार रेजिमेंट
फाइल फोटो

नई दिल्ली। युद्ध में हताहत सैनिक और उनके परिवार सेवामुक्त होने के बाद एक साल तक अपने क्वार्टर को रख सकेंगे। अब तक सैनिकों या उनके परिवारों को तीन महीने बाद सरकारी क्वार्टर छोड़ देना होता था। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक युद्ध या संघर्षों के दौरान अपना जीवन त्याग देने को तैयार रहने वाले सैनिकों का मनोबल बढ़ाने के लिये रक्षा मंत्रालय ने इस आशय का फैसला लिया है।





रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस आशय के प्र्स्ताव को औपचारिक मंजूरी दे दी है। यह आदेश तीनों सेनाओं के सैनिकों पर लागू होगा। यहां रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता के मुताबिक सशस्त्र सेनाओं की जरूरतों को देखते हुए रक्षा मंत्रालय ने मौजूदा प्रावधानों की समीक्षा की। इसके बाद मौजूदा प्रावधान को तीन महीने से बढ़ाकर एक साल तक करने की सिफारिश की।

गौरतलब है कि संघर्ष के दौरान जो सैनिक अपंग हो जाते हैं और उन्हें सेवामुक्त कर दिया जाता ह या उनकी जान चली जाती है तो उसके बाद उनके परिवारों से सरकारी क्वार्टर तीन महीने तक ही रखने की अनुमति दी जाती थी। नये फैसले से सैनिकों को इस बात की चिंता नहीं होगी कि उनके नहीं रहने या सेवामुक्त होने के बाद सरकार उन्हें मकान की सुविधा भी छीन लेगी।

Comments

Most Popular

To Top