DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: भारत अब सबसे बड़ा हथियार आयातक नहीं

एस- 400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। एक  दशक तक अंतरराष्ट्रीय हथियार बाजार का सबसे बड़ा चहेता बने रहने के बाद भारत  का स्थान खिसककर दूसरे स्थान पर आ गया है। पहले स्थान पर दुनिया के सबसे बड़े हथियार खरीदार के तौर पर सऊदी अरब का नाम आ गया है।





स्टाकहोम स्थित अंतरराष्ट्रीय शांति शोध संस्थान (सिपरी) के एक ताजा आकलन में यह निष्कर्ष निकला है। इसके साथ ही यह भी खुलासा हुआ है कि 2014-18 के दौरान रूस से भारत का हथियार आयात घटकर 58 प्रतिशत पर आ गया है जब कि 2009-13 के दौरान यह हिस्सा 76 प्रतिशत तक चला गया था।

हालांकि पिछले दशक के दौरान भारत और अमेरिका के बीच सामरिक साझेदारी का रिश्ता गहरा हुआ है और भारत का अमेरिका के प्रति सामरिक झुकाव बढ़ा है और इस दौरान भारत ने अमेरिकी हथियार कम्पनियों से कई अरब डॉलर के हथियार खरीदे हैं लेकिन भारतीय सेना रूसी हथियारों का सबसे ब़ड़ा सप्लायर रहा है। ‘सिपरी’ पांच साल की अविध के आधार पर दुनिया के प्रमुख आयातक और निर्यातक देशों के हथियार खरीद सौदों का अध्ययन करता है।

लेकिन यहां सामरिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि पिछले एक साल के भीतर भारत ने रूस से जो हथियार सौदे किये हैं उनका आकलन किया जाए तो भारतीय हथियार आयात में रूस का हिस्सा काफी बढ़ जाएगा। इस दौरान भारत ने रूस से सवा पांच अरब डॉलर की पांच एस- 400 मिसाइल प्रणाली, तीन अरब डॉलर की परमाणु पनडुब्बी, कामोव हेलिकॉप्टर, मल्टी रोल हेलिकॉप्टर, एसाल्ट राइफल आदि के कई बड़े सौदे किये हैं। उधर अमेरिका से भारत ने पिछले पांच साल की अवधि में  हेवी लिफ्ट हेलिकॉप्टर चिनूक, हमलावर हेलिकॉप्टर अपाशे, एम- 777  अल्ट्रालाइट होवित्जर तोपों आदि के सौदे किये हैं।

‘सिपरी’ रिपोर्ट के मुताबिक पांच साल की अवधि में भारत का हथियार आयात पूरी दुनिया के हथियार सौदों का 9.5 प्रतिशत रहा है। साल 2014-18 के दौरान इजराइल, अमेरिका और फ्रांस ने भी भारत के साथ बड़े हथियार सौदे किये हैं। कभी पूरी तरह रूस पर निर्भर रहने वाले भारत ने अपने हथियारों की खरीद को व्यापक आधार दिया है।

हथियारों के सौदों के रुझान के बारे मे सिपरी रिपोर्ट में कहा गया है कि 2009-13 और 2014-18 के बीच भारत का हथियार आयात 24 प्रतिशत घटा है। 2014-18 के दौरान अमेरिका, रूस, फ्रांस,  जर्मनी और चीन दुनिया के पांच सबसे  बड़े हथियार निर्यातक के तौर पर उभऱे। दुनिया के पांच सबसे बड़े आयातकों में सऊदी अरब, भारत, इजिप्ट, ऑस्ट्रेलिया और अल्जीरिया उभरे। 2003-18 के दौरान अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा हथियार निर्यातक रहा।

इसी दौरान रूस का बड़े हथियारों का निर्यात पांच साल की अवधि में 17 प्रतिशत घटा। यह कमी भारत और वेनेजुएला द्वारा हथियार आयात कम करने की वजह से हुई।

Comments

Most Popular

To Top