DEFENCE

खास रिपोर्ट: अंतरिक्ष में चीन से खतरे का अनुमान बढ़ा

अंतरिक्ष में चीन से खतरा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। चीन ने अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम को अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा और सैन्य जरूरतों के अनुरूप ढाल दिया है जिससे चीनी जन मुक्ति सेना (PLA)  की सैन्य क्षमता में भारी इजाफा हुआ है।





भारतीय थलसेना की पर्सपेक्टिव प्लानिंग के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल तरनजीत सिंह ने यहां विचार संस्था आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा आयोजित कल्पना चावला स्पेस डायलाग में विशेष व्याख्यान देते हुए कहा कि चीन और पाकिस्तान दोनों से अंतरिक्ष के जरिये भारत के खतरे का आकलन काफी बढ़ गया है। इसलिये अब इस बात की तत्काल जरुरत है कि देश की अंतरिक्ष नीति  इसके अनुरूप विकसित की जाए। यह पुनर्गठन चीन और पाकिस्तान द्वारा साझा तौर पर की जा रही तैयारियों के मद्देनजर काफी जरूरी है। उन्होंने कहा कि  अंतरिक्ष जगत में चीन पाकिस्तान का इस्तेमाल  अपने पिट्ठू  की तरह कर रहा है ।

थलसेना  के आला अधिकारी ने कहा कि अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों का मुकाबला करने के लिये भारत को अडवांस्ड अंतरिक्ष तकनीक का अधिक से अधिक दोहन करना होगा। उन्होंने कहा कि सेनाओं के लिये अंतरिक्ष तकनीक का इस्तेमाल  न केवल लाजिस्टिक्स के लिये बल्कि हथियारों और मिसाइलों की तैनाती के लिये करना होगा।  उन्होंने कहा कि विशाल भौगोलिक इलाके में बसे भारत जैसे देश के लिये यह काफी जरुरी है।

जनरल तरनजीत सिंह ने कहा कि चीन की एंटी सैटेलाइट टेस्ट क्षमता की वजह से अंतरिक्ष में भारत के संसाधनों को बचाने की चिता बढ़ गई है। एक अन्य पूर्व रक्षा वैज्ञानिक डा. शिवथानु पिल्लै ने कहा कि अंतरिक्ष में अपने संसाधनों को बचाने की चिंता न केवल भारत को बल्कि दूसरी  अंतरिक्ष ताकतों को भी है।

Comments

Most Popular

To Top