DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: पाकिस्तान के भीतर घुसकर हवाई हमला- 350 आतंकी मारे गए

एयर स्ट्राइक

नई दिल्ली। पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के 12 दिनों बाद  भारत ने  सख्त सैनिक कदम उठाते हुए पाकिस्तान के इलाके में काफी भीतर जा कर  मिराज- 2000 लड़ाकू विमानों से  हवाई हमला किया। यह हमला पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के  बालाकोट पहाड़ी इलाके पर किया गया जहां पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठऩ जैश-ए-मोहम्मद का ट्रेनिंग कैम्प चलाया जा रहा था।





 जानकार सूत्रों के मुताबिक इस हमले में जैश-ए-मोहम्मद के करीब 350 आतंकवादी मारे गए हैं। इसमें जैश-ए-मोहम्मद का संस्थापक मसूद अजहर का साला मौलाना यूसुफ भी मारा गया है।

1971 के युद्ध के बाद पाकिस्तान पर किये गए इस पहले सीमा पार  सर्जिकल एयर स्ट्राइक में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी शिविर के कई आतंकवादी, उनके ट्रेनर , कमांडर और जेहादियों के जत्थे मारे गए। विदेश सचिव विजय गोखले ने पाकिस्तान के भीतर किये गए इस सर्जिकल एयर स्ट्राइक के बारे में मीडिया के समक्ष दिये गए अपने बयान में कहा कि  भारत बार बार पाकिस्तान से यह आग्रह कर रहा था कि जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ कार्रवाई करे और उसे पाकिस्तान के इलाके में आतंकवादियों की ट्रेनिंग और हथियार मिलने से रोके।

विदेश सचिव गोखले ने कहा कि भारतीय सुरक्षा बलों के पास इस आशय की विश्वसनीय जानकारी थी कि  जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी भारत के विभिन्न हिस्सों में आत्मघाती हमले करने की तैयारी कर रहे हैं इसलिये इन खतरों से निबटने के लिये भारत को बचाव में यह कार्रवाई करनी पड़ी।

विजय गोखले ने कहा कि खुफिया तंत्र की अगुवाई में आज (26 फरवरी) की सुबह भारत ने बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के ट्रेनिंग कैम्प पर हमला किया। गोखले ने यह भी कहा कि बालाकोट में जैश के ट्रेनिंग कैम्प का नेता जैश ए मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर का साला मौलाना यूसुफ अजहर था।

आतंकवाद के खतरों से निबटने के लिये भारत सरकार सभी जरूरी कार्रवाई करने को प्रतिबद्ध है। इसलिये जैश के कैम्प पर इस गैर सैनिक कार्रवाई खासकर जैश के  कैम्प को निशाना बना कर किया गया। यह लक्ष्य इस तरह चुना गया कि नागरिक आबादी को कोई नुकसान नहीं पहुंचे। यह कैम्प एक घने जंगल वाली पहाड़ी पर स्थित है। विदेश सचिव ने कहा कि चूंकि यह हवाई हमला कुछ वक्त पहले हुआ है इसलिये हम इसके विवरण की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

विदेश सचिव ने कहा कि पाकिस्तान सरकार ने जनवरी, 2004 में भारत से यह वादा किया था कि वह अपने नियंत्रण वाले इलाके का इस्तेमाल भारत विरोधी आतंकवादी हमले के लिये नहीं करने देगा।  उन्होंने कहा कि भारत यह उम्मीद करता है कि अपने वादे को निभाए औऱ जैश ए मोहम्मद के सभी आतंकवादी ठिकानों को नष्ट् करने के लिये जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

विदेश सचिव ने कहा कि जैश ए मोम्मद संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित है और भारत में पुलवामा सहित कई आतंकवादी हमलों के लिये जिम्मेदार है। पिछले दो दशकों से यह भारत के खिलाफ आतंकवादी हमले करवा रहा है। इसका मुख्यालय पाकिस्तान के बहावलपुर में है।

Comments

Most Popular

To Top