DEFENCE

जल्द होगा तीनों सेना को निर्देश देने वाले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का ऐलान

तीनों सेनाओं के अध्यक्ष

नई दिल्ली। अगले माह भारत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के नाम का ऐलान हो सकता है। अलवा इसके सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की जगह लेने वाले नए सेनाध्यक्ष के नाम की भी घोषणा हो सकती है। बता दें कि सेना प्रमुख जनरल रावत 31 दिसंबर को रिटायर हो रहे हैं। सीडीएस के पास सभी सेवारत अध्यक्षों को निर्देश देने और शत्रुता के मद्देनजर सैन्य प्रतिक्रिया के लिए नए थिएटर कमांड बनाने की शक्ति होगी।





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाई गई कार्यान्वयन समिति के अध्यक्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल हैं। समिति ने अभी तक सीडीएस के चार्टर को परिभाषित नहीं किया है। इस घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि सीडीएस सरकार को सैन्य सलाह देगा।

गौरतलब है कि सीडीएस के आदेशों का पालन सभी सेना अध्यक्षों को करना होता है। वह ज्वाइंटमैनशिप को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार होगा। अलावा इसके CDS त्रिसेवाओं के ढांचे की अध्यक्षता करेगा। जिसमें एकीकृत रक्षा कर्मचारियों के मौजूदा पद को रक्षा कर्मचारियों के उप प्रमुख के रूप में परिवर्तित किया जाएगा।

वर्तमान  IDS अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल पीएस राजेश्वर को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भारत के एकमात्र त्रि-सेवा कमान में तैनात किया जा रहा है। वह वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की जगह लेंगे जो 30 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। ज्वाइंटमैनशिप मिलिट्री का एक अहम डॉक्टराइन है जो समन्वय, रणनीति, क्षमताओं और एकीकरण को संदर्भित करता है.

आर्मी एक्सपर्ट के मुताबिक ज्वाइंटमैनशिप उस वक्त ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाएगा अगर भारत को दो तरफ एक साथ युद्ध करना पड़े। चीन ने पहले ही पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को सैन्य क्षेत्रों और थिएटर कमांड में विभाजित किया हुआ है। दूसरी तरफ पाकिस्तान का सशस्त्र बल ज्वाइंट स्टाफ हेडक्वार्टर की धारणा पर चलता है। जिसमें सेना अपने कोर कमांडरों के अन्तर्गत भूमिका निभाती है।

जैसा कि सैन्य विशेषज्ञों ने बताया है कि ज्वॉइंटमैनशिप उस समय काफी अहम हो जाएगा यदि भारत पर दो तरफ- उत्तर-पश्चिमी और उत्तर-पूर्वी सीमा से हमला हो जाए। चीन ने पहले ही पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को सैन्य क्षेत्रों और थिएटर कमांड में विभाजित किया हुआ है। वहीं पाकिस्तान का सशस्त्र बल ज्वॉइंट स्टाफ हेडक्वार्टर की धारणा पर चलता है। जिसमें सेना अपने कोर कमांडरों के तहत भूमिका निभाती है।

Comments

Most Popular

To Top