DEFENCE

घाटी में जहर घोलने के लिए पाकिस्तान ले रहा है सोशल मीडिया का सहारा!

नई दिल्ली: कश्मीर में नौजवानों को सैन्य और पुलिस बलों के खिलाफ भड़काने के लिए पाकिस्तान सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर रहा है। इसके लिए वह खासतौर से तब व्हाट्सऐप का सहारा लेता है जब आतंकियों से मुठभेड़ चल रही हो।





क्या कश्मीर में PAVA बम बनेगा पत्थरबाजों-दंगाइयों का इलाज?

दरअसल, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हाल ही में इस सिलसिले में एक केस भी दर्ज किया है। पाकिस्तानियों ने या पाकिस्तान समर्थकों ने व्हाट्सएप पर ग्रुप बना रखे हैं और जब सुरक्षाबलों की आतंकवादियो से मुठभेड़ चल रही होती है तो उस जगह का पता ठिकाना उस ग्रुप पर डाल दिया जा रहा है। इसके बाद बड़ी तादाद में वहां नौजवान पहुंचने शुरू होते हैं जो पथराव और हिंसक गतिविधियां शुरू कर देते हैं।

पुलिस को छानबीन के दौरान ये भी पता लगा कि ये ग्रुप इलाके के हिसाब से बने हुए हैं। इतना ही नहीं एक ग्रुप में दूसरे ग्रुप को भी जोड़ा गया है, जोकि किसी और इलाके के युवकों का ग्रुप है। इस तरह ये ग्रुप्स की एक कड़ी से दूसरी कड़ी जुड़ी हुई है।

पत्थरबाजों और ऐसे हिंसक तत्वों की तरफ से सोशल मीडिया का इस्तेमाल किए जाने की पुष्टि जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस. पी. वेद ने की है और कहा है कि देश के दुश्मन सोशल मीडिया इस्तेमाल कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top