DEFENCE

आयुध निर्माणी अग्निकांड: सेफ्टी टीम ने जुटाए सबूत

जबलपुर: मध्य प्रदेश के जबलपुर में दो दिन पहले खमरिया आयुध निर्माणी में हुए अग्निकांड की जांच फिलहाल जारी है। निर्माणी में बमों से भरे फिलिंग सेक्सन तीन में 845 नम्बर मैग्जीन की सोमवार को दिन भर जांच चली। पुणे से आई क्षेत्रीय संरक्षा नियंत्रणालय की टीम ने दूसरे दिन मंगलवार को भी घटनास्थल से नमूने एकत्र किए। टीम के सदस्य उन दूसरी मैगजीनों के नजदीक भी गये जहां रिजेक्ट बमों का स्टाक रखा हुआ है। स्थितियों का जायजा लेने आयुध निर्माणी बोर्ड ने भी एक अधिकारी को भेजा है। वहीं, दूसरी ओर उत्पादन फिर से बहाल हो गया है।





जांच में सबसे ज्यादा इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि आखिर बमों में आग किस तरह लगी। बिल्डिंग की स्थिति भी देखी जा रही है। शार्ट सर्किट या झाड़ियों में आग भड़कने के एंगल से भी जांच की गई, वहीं आयुध निर्माणी बोर्ड के अधिकारी ने वरिष्ठ महाप्रबंधक एके अग्रवाल से मुलाकात की और उन्होंने फोटो और स्थितियों की कई रिपोर्ट तैयार कर आयुध निर्माणी बोर्ड (ओएफबी) को भेज दिया है। अपर महाप्रबंधक ठाकुर ने बताया कि अब स्थितियां सामान्य हो गई हैं और निर्माणी का काम सुचारू रूप से जारी है।

गौरतलब है कि, शनिवार को आयुध निर्माणी खमरिया में शाम करीब 6 बजे एक के बाद एक 200 से ज्यादा बम फट गए। धमाकों से आसपास का पूरा क्षेत्र दहल गया। आग की लपटें 5 से 6 किमी दूर से दिखाई दे रही थीं। विस्फोट कैसे हुआ फिलहाल इसका पता नहीं चल सका है।

विस्फोट के समय ही निर्माणी के एफ-3 सेक्शन में लिफ्टर से 125एमएम (एंटी टैंक एम्युनेशन) बमों को प्लेटफार्म पर रखा जा रहा था। यहां करीब 900 करोड़ रुपए का गोला-बारुद रखा हुआ था। धमाको के बाद तुरंत ही फैक्ट्री के सभी गेट बंद कर दिए गए। फैक्ट्री परिसर में इस दौरान करीब 100 से ज्यादा कर्मचारी मौजूद थे।

Comments

Most Popular

To Top