DEFENCE

मिराज- 2000 को वायुसेना ने इसलिए चुना आतंकी कैंप पर हमले के लिए

लड़ाकू विमान मिराज

नई दिल्ली। एलओसी पार आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए मिराज- 2000 लड़ाकू विमान को इसलिए चुना गया क्योंकि उसमें कई खूबियां हैं। यह विमान भीतर तक घुसकर मार करता है और भीतर जाकर टारगेट को ध्वस्त करने की अचूक क्षमता रखता है। अलावा इसके यह एयर टू सरफेस मिसाइल भी कैरी कर सकता है। एक खास बात और यह है कि मिराज को रडार भी आसानी से नहीं पकड़ सकता।





भारतीय वायुसेना में शामिल मिराज- 2000 डीप पेनिट्रेशन स्ट्राइक एयरक्राफ्ट है। पिछले हफ्ते पोखरण में हुए ‘वायुशक्ति अभ्यास’ में मिराज ने अपनी ताकत दिखाई थी। उसे जो भी लक्ष्य दिया उसने उसे तबाह कर दिया था।

लड़ाकू विमान मिराज

आपको बता दें कि अस्सी के दशक का मिराज- 2000 भारतीय वायुसेना के बेड़े शामिल सबसे अच्छा लड़ाकू विमान है। यह विमान भारत के अलावा फ्रांस, चीन और यूएई के बेड़े में भी शामिल है।

आज तड़के की गई भारतीय वायुसेना की कार्रवाई में मिराज- 2000 के अलावा डीआरडीओ के मिनी अवॉक्स भी शामिल थे। जो तकरीबन 200 किमी दूर तक हर हरकत पर नजर रख सकते हैं। साथ ही हवा में ईंधन भी भर सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top