DEFENCE

रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने किया नाभिकीय औषधि सभा के वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन

रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे

नई दिल्ली। रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने आज भारतीय नाभिकीय औषधि सभा के 49वें वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन किया। भामरे ने इस अवसर पर कहा कि चिकित्सा विज्ञान में तरक्की से जीवन स्तर में अहम सुधार आया है। इस प्रगति की वजह से जीवन आशा में वृद्धि, अभी तक लाइलाज रही बीमारियों का इलाज और मानव शरीर को समझने की झमता में वृद्धि हो पाई है। उन्होंने कहा गत कुछ वर्षों में नाभिकीय औषधि की भूमिका में अहम गति आई है।





रक्षा राज्य मंत्री भामरे के मुताबिक डीआरडीओ की अनुसंधान प्रयोगशाला, नाभिकीय औषधि और संबद्ध विज्ञान संस्थान (इनमास) नाभिकीय औषधि के अनुसंधान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण इस्तेमाल को बढ़ा रही है। इनमास ने हमेशा से विकिरण और इमेजिंग विज्ञान रे क्षेत्र में शैक्षिक विकास से प्रभावी भूमिका निभाई है। इनमास का योगदान रक्षा मंत्रालय द्वारा समाज के हित के लिए अनुसंधान गतिविधियों को सहयोग का सबसे बड़ा उदाहरण है।

भामरे ने कहा कि इनमास के वैज्ञानिक नाभिकीय औषधि सभा की विभिन्न गतिविधियों-शैक्षणिक कार्यक्रम, नीति निर्माण और प्रशिक्षण में सक्रीय सदस्य रहे हैं। उन्होंने अनुसंधान और प्रशिक्षण द्वारा अग्रिम नाभिकीय चिकित्सा लक्षण और चिकित्सा संबंधी उपयोग के लिए इनमास और नाभिकीय औषधि सभा, अस्पताल और राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों के साथ-साथ उद्योगों और निजी क्षेत्र के बीच गठजोड़ को और मजबूत करने पर जोर दिया।

डॉ.सुभाष भामरे ने कहा कि इनमास के वैज्ञानिक नाभिकीय औषधि सभा की विभिन्न गतिविधियो-शैक्षणिक कार्यक्रम,नीति निर्माण और प्रशिक्षण में सक्रिय सदस्य रहे हैं। उन्होंने अनुसंधान और प्रशिक्षण द्वारा अग्रिम नाभिकीय चिकित्सा लक्षण और चिकित्सा संबधी उपयोग के लिए इनमास और नाभिकीय औषधि सभा, अस्पताल और राष्ट्रीय विश्वविद्यालयो के साथ-साथ उद्योगो और निजी क्षेत्र के बीच गठजोड़ को ओर सशक्त करने पर जोर दिया।

सम्मेलन को नाभिकीय औषधि सभा (भारत) के अध्यक्ष डॉ. अंशु रजनीश शर्मा, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक प्रोफेसर डॉ. रणदीप गुलेरिया और अन्य व्यक्तियों ने भी इस कार्यक्रम अपने विचार रखे।

 

Comments

Most Popular

To Top